भीड़तंत्र का हत्यारा बन जाने का दर्द