राष्ट्रहित और आगामी चुनाव