लियाक़त अली

आतंकियों का पुनर्वास व मुस्लिम घुसपैठ…..

जम्मू-कश्मीर की एक और संवेदनशील समस्या विचार करने योग्य है कि पीओके के नागरिकों को कश्मीर में अपने बिछुड़े हुए परिवार से मिलने व स्वास्थ्य सम्बंधित सेवाओं के लिये पहले केवल एक माह तक रहने की छूट थी । परंतु पिछली सोनिया गांधी /मनमोहन सिंह की सरकार ने मार्च 2011 में इस अवधि को छह माह तक बढ़ा दिया और उसपर भी मल्टीपल एंट्री की छूट और दे दी। इस प्रकार पीओके से आने वाले विभिन्न लोग कश्मीर में छह माह तक रह सकते है और इन अवधि में वे कितनी ही बार पीओके व कश्मीर के मध्य आना जाना कर सकते है। जब यह वर्षो से सर्वविदित ही था और है कि पीओके में अनेक आतंकवादियों के अड्डे बने हुए है और उनका कश्मीर के रास्ते भारत मे आतंक फैलाने ही मुख्य मिशन है तो यह आत्मघाती निर्णय किस राजनीति का भाग है ?