लोकतंत्र की हत्या की चालीसवीं बरसी