लोकतंत्र लोक-दुःख