लोकतंत्र – वरदान या अभिशाप