वंश आधारित समाज

“वसुधैव कुटुम्बकम” के विपरीत जातिबाद में बंटा समाज

डा. राधेश्याम द्विवेदी भारत में जाति सर्वव्यापी तत्व है । ईसाइयों, मुसलमानों, जैनों, बौद्धों और…