वांगचुक और डॉ. वटवाणी