वीतराग संन्यासी की भांति जीवन