शास्त्रार्थ महारथी ठा. अमर सिंह”