संवैधानिकता पर तार्किक बहस