‘स्वराज्य’ के उपासक महर्षि दयानन्द