स्वराज्य वा स्वतन्त्रता के प्रथम मन्त्र-दाता