ये बासट वाला हिंदुस्तान नहीं।

0
210

मत ललकार चीन हमे तू,
ये बासट वाला हिंदुस्तान नहीं।
चमगादड़ खाने वाले तू,
हम से क्या लड़ पाएगा।
जीवों की हत्या करने वाले,
अब तू नहीं बच पाएगा।
बना ले तू जितना सस्ता माल,
विश्व में नहीं बिक पाएगा।
भारत के अच्छे उत्पादन के आगे,
अब तू नहीं टिक पाएगा।
मत उलझ जाना अबकी बार,
रहेगा तेरा नाम निशान नहीं।
मत ललकार चीन हमे तू,
ये बासट वाला हिंदुस्तान नहीं।।

हांगकांग ताइवान है नहीं तेरे साथ
उन्होंने आजादी का बिगुल बजाया है।
नेपाल भूटान भी नहीं तेरे साथ,
तूने उनको खूब सताया है।
सच्चा मित्र भी नहीं पाकिस्तान,
उसका हिस्सा भी तूने दबाया है।
ब्रिटेन अमेरिका भी नहीं तेरे साथ,
तूने वहां कोरोना फैलाया है।
इन बातो को सोच समझ ले,
क्या तेरी अक्ल में कुछ आया है।
कोई भी देश नहीं तेरे साथ में,
WHO ने तुझे खूब समझाया है।
विस्तारवाद है तेरी नीति,
तेरा तो कोई धर्म ईमान नहीं,
मत ललकार चीन हमे अब तू,
ये बासट वाला हिंदुस्तान नहीं।

मत बढ़ा सीमा पर तनाव,
वरना मूह की तू खाएगा।
हटा ले अपनी फौजे LAC से
वरना तू हमेशा पछताएगा।
हम मिट्टी के नहीं बने है
फौलादी हमारा सीना है।
डोलकम को क्या भूल गया,
तेरा मुश्किल हो गया जीना था,
क्यो हट रहा है गलवन घाटी से,
जहां तूने अपनी फौज जमाई थी,
देखा जब तूने हमारी भारी सेना,
तब ही तूने अपनी फौज हटाई थी
आगे बढ़ना इन सेक्ट्रो में,
अब तेरा इतना आसान नहीं,
मत ललकार चीन हमे तू,
ये बासट वाला हिंदुस्तान नहीं।।

आर के रस्तोगी

Previous articleलद्दाख से गांधीगिरी का शंखनाद
Next articleभारत में मंदिरों की लूट : नेहरू की धर्मनिरपेक्षता पर आंसू बहता अनंतनाग का सूर्य मंदिर
आर के रस्तोगी
जन्म हिंडन नदी के किनारे बसे ग्राम सुराना जो कि गाज़ियाबाद जिले में है एक वैश्य परिवार में हुआ | इनकी शुरू की शिक्षा तीसरी कक्षा तक गोंव में हुई | बाद में डैकेती पड़ने के कारण इनका सारा परिवार मेरठ में आ गया वही पर इनकी शिक्षा पूरी हुई |प्रारम्भ से ही श्री रस्तोगी जी पढने लिखने में काफी होशियार ओर होनहार छात्र रहे और काव्य रचना करते रहे |आप डबल पोस्ट ग्रेजुएट (अर्थशास्त्र व कामर्स) में है तथा सी ए आई आई बी भी है जो बैंकिंग क्षेत्र में सबसे उच्चतम डिग्री है | हिंदी में विशेष रूचि रखते है ओर पिछले तीस वर्षो से लिख रहे है | ये व्यंगात्मक शैली में देश की परीस्थितियो पर कभी भी लिखने से नहीं चूकते | ये लन्दन भी रहे और वहाँ पर भी बैंको से सम्बंधित लेख लिखते रहे थे| आप भारतीय स्टेट बैंक से मुख्य प्रबन्धक पद से रिटायर हुए है | बैंक में भी हाउस मैगजीन के सम्पादक रहे और बैंक की बुक ऑफ़ इंस्ट्रक्शन का हिंदी में अनुवाद किया जो एक कठिन कार्य था| संपर्क : 9971006425

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here