ये तुम्हारी ज़िंदगी है , तुम जियो भरपूर इसको।

युवा पीढ़ी के प्रति —
परिवर्तन

                         *
  फूल  बन  सुरभित  करो , उपवन  ये  सारा,
  तुम सदा आगे बढ़ो, बनकर परस्पर तुम सहारा।
  चकित सा रह जाए जग ये,देख दृढ़-निश्चय तुम्हारा,
  सफलता  तव  चरण चूमे, बढ़े  नित गौरव हमारा ।।
                             *
   ज़िंदगी हम जी चुके हैं, उम्र भी अब ढल गयी है ,
   हो गये अनुभव  पुराने, बुद्धि  भी  तो खो गयी है ।
   हम  किसी का मार्गदर्शन , कर नहीं सकते यहाँ,
   है  ज़माना तीव्र  गति  से, बढ़ गया जाने कहाँ ?
                             *
   पीढ़ियों  के  बीच  में  हैं, दूरियाँ  कितनी  बनीं ,
   मानसिकता भिन्न है  और  विवशताएँ  भी  घनी।
   नये युग  की  मान्यताओं में , सभी बँध से गये हैं,
   हम  लिये  संस्कृति पुरानी, मूक-दृष्टा रह गये हैं।।
                            *
   उभरती  सी  नयी  पीढ़ी , बहुत  आगे  जाएगी ,
   ढल  रही  पीढ़ी  पुरानी, देखती  रह  जाएगी ।
   जर्जरित  सी  डाल है वह, टूटकर  गिर  जाएगी,
   शाम  है  ये  ज़िंदगी  की , रात  में  सो जाएगी।।
                            *
   पीढ़ियों का द्वन्द्व  तो ये , सदा से चलता रहा है ,
  बिखरते से वृद्ध मन को , समय ये छलता रहा है।
  सृष्टि का ये क्रम सुनिश्चित,आदि से चलता रहा है,
  और हर युग में यही जग, इसी  में  ढलता  रहा है ।।
                     ***************
                                   — शकुन्तला बहादुर

Leave a Reply

%d bloggers like this: