लेखक परिचय

सुरभी

सुरभी

आप अभी रांची, झारखण्ड में छात्रा है, कविताएं लिखना आपका शौक, दुनिया बदलने कि ख्वाइश रखती हैं…

Posted On by &filed under समाज.


ramdevयोगऋषि स्वामी रामदेव जी महाराज का देश को स्वावलम्बन तक ले जाने का जो प्रयास है वह सचमुच सराहनीय है. आज जब पूरा देश विनाश की राह पर चल पडा है तब स्वामी जी ने जो कदम हमारे देश की स्वाधीनता को ध्यान में रखकर बढाया है वह जरुर ही विनाश की ओर बढते कदमों को रोक लेगा. पर सिर्फ़ एक कदम ही इस साठ साल के सफ़र को नयी दिशा दे ये भी तो सम्भव नहीं. आज जरुरत है कि देश का हर कदम स्वामी जी के पदचिन्हों पर चले. हमसब को आगे आना चाहिए क्योंकि देश को हमारी जरुरत है. आज फ़िर से देश में स्वदेशी के लिये आंदोलन की आवश्यकता है. हमारा देश गरीब देशों की कतार में खडा है और हमारे देश के करोडों रुपये विदेशी बैंकों में पडे हैं क्या ये हमारा फ़र्ज़ नहीं कि हम उन पैसों को वापस लायें और अपने देश के विकास में उनका इस्तेमाल करें?
योगऋषि स्वामी रामदेव जी महाराज का देश को स्वावलम्बन तक ले जाने का जो प्रयास है वह सचमुच सराहनीय है. आज जब पूरा देश विनाश की राह पर चल पडा है तब स्वामी जी ने जो कदम हमारे देश की स्वाधीनता को ध्यान में रखकर बढाया है वह जरुर ही विनाश की ओर बढते कदमों को रोक लेगा.
हम क्यों अपने आपको लाचार और बेबस समझते हैं जबकि ये देश हमारा है और यहां कोई कुछ कर सकता है तो वो हम हैं. हमें ये कभी नहीं भुलना चाहिये कि अगर कोइ हमारे देश मे खास है तो सिर्फ़ इसलिये क्योंकि हमने उन्हें आम से खास बनाया है.देश को आज फ़िर क्रांतिकारियों की जरुरत है पर इस बार गोरे अंग्रेजों को नहीं बल्कि काले अंग्रेजों को भगाना है. और इस नेक काम को शुरु करने के लिये चुनाव से अच्छा और क्या अवसर हो सकता है? सबसे पहले काले अंग्रेजों को हमें अपनी वोट की ताकत दिखानी और अपने देश के लिये योग्य नेता चुनना है. नेता ऐसा हो जो अपने देश को अपना समझे.जो सम्पन्न्ता की ओर जाने में देश की मदद करे. शायद इस बार हमारे देश को सही दिशा मिले!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *