लेखक परिचय

विजय कुमार

विजय कुमार

निदेशक, विश्व संवाद केन्द्र सुदर्शन कुंज, सुमन नगर, धर्मपुर देहरादून - २४८००१

Posted On by &filed under विविधा.


– विजय कुमार

मां का हृदय सदा ही ममता से भरा होता है; पर अपने बच्चों के साथ अन्य बच्चों को भी वैसा ही स्नेह प्रेम देने वाली उषा दीदी का जन्म जनवरी, 1930 में आगरा में अत्यधिक सम्पन्न परिवार में हुआ था। सात भाइयों के बीच इकलौती बहिन होने के कारण उन्हें घर में खूब प्रेम मिला। उनके सबसे बड़े भाई श्री अशोक सिंहल ‘विश्व हिन्दू परिषद’ के अध्यक्ष हैं।

अशोक जी के कारण घर में संघ के विचारों का भी प्रवेश हुआ, जिसका प्रभाव उषा जी पर भी पड़ा। 1964 में गृहस्थ जीवन के दायित्वों के बावजूद मा. रज्जू भैया के आग्रह पर वे विश्व हिन्दू परिषद के महिला विभाग से सक्रियता से जुड़ गयीं। मुंबई में 1968 में मारीशस के छात्रों के लिए जब संस्कार केन्द्र खोला गया, तो उसकी देखभाल उन्होंने मां की तरह की।

कुछ समय बाद वे विश्व हिन्दू परिषद के काम के लिए प्रवास भी करने लगीं। प्रवासी जीवन बहुत कठिन है। वे इसकी अभ्यासी नहीं थीं; पर जिम्मेदारी स्वीकार करने के बाद उन्होंने कष्टों की चिन्ता नहीं की। कभी कार से नीचे पैर न रखने वाली उषा दीदी गली-मोहल्लों में कार्यकर्ताओं से मिलने पैदल और रिक्शा पर भी घूमीं। उ.प्र., म.प्र., राजस्थान और दिल्ली में उन्होंने महिला संगठन को मजबूत आधार प्रदान किया। महिलाओं को संगठित करने के लिए बने ‘मातृशक्ति सेवा न्यास’ के गठन में उनकी महत्वपूर्ण भूमिका थी।

1979 में प्रयागराज में हुए द्वितीय विश्व हिन्दू सम्मेलन तथा 1987 में आगरा में हिन्दीभाषी क्षेत्र की महिलाओं के अभ्यास वर्ग के लिए उन्होंने घोर परिश्रम किया। 1989 में प्रयागराज में संगम तट पर आयोजित तृतीय धर्म संसद में श्रीराम शिला पूजन कार्यक्रम की घोषणा हुई थी। उसकी तैयारी के लिए उषा दीदी एक महीने तक प्रयाग में रहीं और कार्यक्रम को सफल बनाया।

1994 में दिल्ली में महिला विभाग का राष्ट्रीय सम्मेलन हुआ। उसके लिए धन संग्रह की पूरी जिम्मेदारी उन्होंने निभाई और 45 लाख रु0 एकत्र किये। ‘साध्वी शक्ति परिषद’ के सहचंडी यज्ञ की पूरी आर्थिक व्यवस्था भी उन्होंने ही की। उनके समृध्द मायके और ससुराल पक्ष की पूरे देश में प्रतिष्ठा थी। इस नाते वे जिस उद्योगपति से जो मांगती, वह सहर्ष देता था। वे यह भी ध्यान रखती थीं कि धन संग्रह, उसका खर्च और हिसाब-किताब संगठन की रीति-नीति के अनुकूल समय से पूरा हो।

उषा दीदी तन, मन और धन से पूरी तरह हिन्दुत्व को समर्पित थीं। संघ के प्रचारकों तथा विश्व हिन्दू परिषद के पूर्णकालिक कार्यकर्ताओं को वे मां और बहिन जैसा प्यार और सम्मान देती थीं। संगठन के हर आह्नान और चुनौती को उन्होंने स्वीकार किया। 1990 और फिर 1992 की कारसेवा के लिए उन्होंने महिलाओं को तैयार किया और स्वयं भी अयोध्या में उपस्थित रहीं।

अनुशासनप्रिय उषा दीदी परिषद की प्रत्येक बैठक में उपस्थित रहती थीं। चुनौतीपूर्ण कार्य को स्वीकार कर, उसके लिए योजना निर्माण, प्रवास, परिश्रम, सूझबूझ और समन्वय उनकी कार्यशैली के हिस्से थे। इसलिए संगठन ने उन्हें जो काम दिया, उसे उन्होंने शत-प्रतिशत सफल कर दिखाया। 40 वर्ष तक परिषद के काम में सक्रिय रही उषा दीदी का 19 नवम्बर, 2010 को दिल्ली में 81 वर्ष की आयु में देहांत हुआ।

2 Responses to “श्रद्धांजलि/ममतामयी उषा दीदी”

  1. डॉ. मधुसूदन

    डॉ. मधुसूदन उवाच

    ” उनके सबसे बड़े भाई श्री अशोक सिंहल ‘विश्व हिन्दू परिषद’ के अध्यक्ष हैं।”
    विजय कुमार जी शायद यहां आप “उनसे बडे भाई” कहना चाहते हैं।सबसे बडे-से-छोटे क्रमानुसार ==> (१) विनोदप्रकाश, (२) प्रमोदप्रकाश (३)आनंद प्रकाश (४)अशोक जी (५) उषा दीदी (६) भारतेन्दु प्रकाश (७)पियुष जी (८) विवेक प्रकाश –यह जानकारी “पथिक” नामक, पुस्तकसे हैं।

    Reply
  2. Himwant

    ममतामयी दीदी को
    श्रद्धांजली
    * *
    *
    * *
    * *
    * *

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *