लेखक परिचय

प्रवक्‍ता ब्यूरो

प्रवक्‍ता ब्यूरो

Posted On by &filed under प्रवक्ता न्यूज़.


मध्यप्रदेश के राज्यपाल रामेश्वर ठाकुर ने किया सम्मान

भोपाल,10 अक्टूबर। मध्यप्रदेश के राज्यपाल रामेश्वर ठाकुर ने रविवार को भोपाल स्थित हिंदी भवन के सभागार में आयोजित समारोह में युवा पत्रकार एवं लेखक संजय द्विवेदी को उनकी नई किताब ‘मीडियाः नया दौर- नई चुनौतियां’ के लिए इस वर्ष के वाड्.मय पुरस्कार से सम्मानित किया। स्व. हजारीलाल जैन की स्मृति में प्रतिवर्ष किसी गैर साहित्यिक विधा पर लिखी गयी किताब पर यह पुरस्कार दिया जाता है।

मध्य प्रदेश राष्ट्रभाषा प्रचार समिति द्वारा आयोजित इस सम्मान समारोह की अध्यक्षता प्रदेश के नगरीय विकास मंत्री बाबूलाल गौर ने की और विशिष्ट अतिथि के रूप में सांसद रधुनंदन शर्मा मौजूद थे। कार्यक्रम के प्रारंभ में स्वागत भाषण समिति के अध्यक्ष रमेश दवे ने किया और आभार प्रदर्शन कैलाश चंद्र पंत ने किया। संजय की यह किताब यश पब्लिकेशन, दिल्ली ने छापी है और इसमें मीडिया के विविध संदर्भों पर लिखे उनके लेख संकलित हैं। सम्मान समारोह में वितरित पुस्तिका में कहा गया है कि- “वर्ष 2010 में प्रकाशित इस कृति में लेखक के आत्मकथ्य सहित 27 लेख हैं। इन लेखों में प्रिंट और इलेक्ट्रानिक मीडिया की दशा व दिशा का आज के बाजारवाद के परिप्रेक्ष्य में विशद् तार्किक विवेचन किया गया है। पुस्तक के लेखक संजय द्विवेदी स्वयं पत्रकारिता को जी रहे हैं, इसलिए पुस्तक के लेखों में विषय की गहराई, सूक्ष्मता और अनुभवपरकता तीनों मौजूद है। पुस्तक मीडिया से जुड़े कई अनदेखे पृष्ठ खोलने में सफल है।” श्री द्विवेदी अनेक प्रमुख समाचार पत्रों के अलावा इलेक्ट्रानिक और वेबमीडिया में भी महत्वपूर्ण पदों पर काम कर चुके हैं। उनकी अब तक आठ पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी हैं और छः पुरस्कार भी मिल चुके हैं। संप्रति वे माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय, भोपाल में जनसंचार विभाग के अध्यक्ष हैं।

पुस्तक परिचयः

पुस्तक का नामः मीडियाः नया दौर नई चुनौतियां

लेखकः संजय द्विवेदी

प्रकाशकः यश पब्लिकेशन्स, 1 / 10753 सुभाष पार्क, गली नंबर-3, नवीन शाहदरा, नीयर कीर्ति मंदिर, दिल्ली-110031, मूल्यः 150 रुपये मात्र

7 Responses to “वाड्.मय पुरस्कार से नवाजे गए संजय द्विवेदी”

  1. श्रीराम तिवारी

    shriram tiwari

    हर किसी को मुकम्म्बल जहाँ ,नहीं मिलता .कहीं जमीं तो कहीं आसमा नहीं मिलता …
    वांग्मय पुरस्कार के यशस्वी ओज से -देश और समाज के हितु साधक बनें …ऐसी अनेकानेक शुभकामनाएं …..

    Reply
  2. शिशिर सिंह

    आपकी इस उपलब्धि पर आपको बधाई।

    Reply
  3. पंकज कुमार साव

    हिन्दी के प्रति लगाव तो बहुत लोग रखते हैं पर संजय जी की तरह व्यवहारिक लोग कम हैं। बधाई हो संजय जी।

    Reply
  4. krishna mohan tiwari

    यह पुस्तक मीडिया के वर्तमान परिदृश्य एवं भविष्य के मीडिया की दशा व दिशा का बोध कराती हैं।
    निशिचत ही वर्तमान समय में मीडिया पर लिखी गयी पुस्तकों में यह बेमिसाल है।
    संजयजी को बहुत-बहुत बधाई……..

    Reply
  5. shekh Mudassar

    वाड्.मय पुरस्कार सम्मान के आपको बधाई हो सर।

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *