जब पिया घर नहीं आए


साजन मेरे नहीं आए,
मेरा सावन सूखा जाए।
मै क्या करू राम अब ?
जब पिया घर नहीं आए।।

उमड़ घुमड़ कर बदरा आए,
प्यासी धरती की प्यास बुझाए
मेरी प्यास अब कौन बुझाए ?
जब पिया मेरे घर नहीं आए।।

झूले पड़ गए है बागन में,
कोयल कूके मेरे कानन में।
मुझे अब कौन झुलाए ?
जब पिया घर नहीं आए।।

मनरा गली में आयो है,
चूड़ी सबको पहनायो है।
मै चूड़ी कैसे पहनूं रे ?
जब पिया घर न आयो है।।

सज धज के सखियां आई हैं,
मुझे बुलाने वे सब आईं हैं।
मै जाऊं उनके कैसे साथ ?
जब पिया घर नहीं आयो है।।

रात अंधेरी आईं हैं,
निंदिया मुझे न आई हैं
मै सोऊ किसके साथ ?
जब पिया घर न आए है।।

सावन में पिया से दूरी,
ये कैसी मेरी मजबूरी।
इसको समझ वहीं पायो है
जिसके पिया घर न आयो है।।

आर के रस्तोगी

Leave a Reply

%d bloggers like this: