More
    Homeसाहित्‍यलेखजब रिश्ते हैं टूटते, होते विफल विधान। गुरुवर तब सम्बल बने, होते...

    जब रिश्ते हैं टूटते, होते विफल विधान। गुरुवर तब सम्बल बने, होते बड़े महान।।

    जब रिश्ते हैं टूटते, होते विफल विधान।
    गुरुवर तब सम्बल बने, होते बड़े महान।।

    बच्चों के विकास में, शिक्षकों की आदर्श भूमिका सही मूल्यों और गुणों के प्रवर्तक और प्रेरक की होनी चाहिए। इस प्रकार, छात्रों को ज्ञान सीधे चम्मच खिलाने के बजाय, उन्हें बच्चों में पूछताछ, तर्कसंगतता की भावना विकसित करने का प्रयास करना चाहिए, ताकि वे अपने दम पर, जुनून के साथ सीखने के लिए सशक्त महसूस करें। साथ ही, शिक्षकों को अच्छे नैतिक मूल्यों जैसे सत्य, ईमानदारी, अनुशासन, नम्रता, धार्मिक सहिष्णुता, लिंग समानता आदि को बच्चों में विकसित करने का प्रयास करना चाहिए ताकि अच्छे इंसानों की नींव रखी जा सके।  यह हमारे समाज का कड़वा सच है कि कुछ शिक्षकों में वास्तव में पढ़ाने के लिए जुनून और ज्ञान नहीं है, ऐसे कई उदाहरण हैं जैसे बिहार के स्कूलों में क्या हो रहा है, अगर शिक्षक में शिक्षण की गुणवत्ता की कमी है तो हम छात्रों से क्या उम्मीद कर सकते हैं, शिक्षा प्रणाली में बदलाव की जरूरत है, एनसीईआरटी का पैटर्न पुराना है और इसे 2015 से संशोधित नहीं किया गया है। साक्षर शिक्षक होने चाहिए लेकिन शिक्षित शिक्षक भी होने चाहिए।

    -प्रियंका ‘सौरभ’

    मनुष्य के जीवन में जन्म से ही ज्ञान, विचारों, मूल्यों का क्रमिक विकास होता है, जो उसे अन्य पशुओं से अलग कर मनुष्य बनाता है। परिवार के बाद, शिक्षक इस विकास में सबसे बड़ी भूमिका निभाते हैं। हालांकि, भारतीय समाज में, शिक्षकों को बहुत उच्च सम्मान में रखा जाता है, प्राचीन काल से वे नैतिकता का प्रमुख स्रोत रहे हैं और समाज में शिक्षा को महत्व देंते रहे है। शिक्षकों ने पूरे समाज के लिए एक दार्शनिक-मार्गदर्शक-मित्र के रूप में कार्य करने के लिए अपने  ज्ञान का इस्तेमाल किया, उनमें से कई ने सामाजिक बुराइयों के खिलाफ काम किया। समकालीन दुनिया में भी, अकादमिक प्रतिभा के अलावा, वे नैतिकता के लिए खड़े हैं और हमारे अत्यधिक ग्रामीण और अनपढ़ समाज में, लोग शिक्षकों को अपने बच्चों के भविष्य के निर्माता के रूप में देखते हैं। बच्चों के विकास में, शिक्षकों की आदर्श भूमिका सही मूल्यों और गुणों के प्रवर्तक और प्रेरक की होनी चाहिए। इस प्रकार, छात्रों को ज्ञान सीधे चम्मच खिलाने के बजाय, उन्हें बच्चों में पूछताछ, तर्कसंगतता की भावना विकसित करने का प्रयास करना चाहिए, ताकि वे अपने दम पर, जुनून के साथ सीखने के लिए सशक्त महसूस करें। साथ ही, शिक्षकों को अच्छे नैतिक मूल्यों जैसे सत्य, ईमानदारी, अनुशासन, नम्रता, धार्मिक सहिष्णुता, लिंग समानता आदि को बच्चों में विकसित करने का प्रयास करना चाहिए ताकि अच्छे इंसानों की नींव रखी जा सके।

     समकालीन दुनिया में एक गहरे मूल्य संकट का सामना करना पड़ रहा है, अगर हमें विकसित और समृद्ध होना है, तो हमारे शिक्षकों की एक बड़ी भूमिका है। शिक्षक का मूल्य प्राचीन भारत के सुंदर श्लोक द्वारा स्पष्ट रूप से परिभाषित किया गया है – गुरु ब्रह्मा, गुरु विष्णु, गुरु देवो महेश्वरा:, गुरु साक्षात परम ब्रह्मा, तस्मै श्री गुरुवे नम:। जिसका अर्थ है “गुरु निर्माता (ब्रह्मा) हैं, गुरु संरक्षक (विष्णु) हैं, गुरुदेव संहारक (महेश्वर) हैं। गुरु स्वयं पूर्ण (एकवचन) भगवान हैं, उस श्री गुरु को नमस्कार” शिक्षक केवल पैसे के लिए पढ़ाने वाला नहीं है, पढ़ाने का जुनून बहुत आगे है। यह हमारे समाज का कड़वा सच है कि कुछ शिक्षकों में वास्तव में पढ़ाने के लिए जुनून और ज्ञान नहीं है, ऐसे कई उदाहरण हैं जैसे बिहार के स्कूलों में क्या हो रहा है, अगर शिक्षक में शिक्षण की गुणवत्ता की कमी है तो हम छात्रों से क्या उम्मीद कर सकते हैं, शिक्षा प्रणाली में बदलाव की जरूरत है, एनसीईआरटी का पैटर्न पुराना है और इसे 2015 से संशोधित नहीं किया गया है। साक्षर शिक्षक होने चाहिए लेकिन शिक्षित शिक्षक भी होने चाहिए।

    किसी भी बच्चे की पहली शिक्षिका माँ होती है, जिसके द्वारा बच्चा उन बुनियादी बातों को सीखता है जिनका उसके व्यक्तित्व पर मौलिक प्रभाव पड़ता है। शिक्षक के पास ज्ञान का पोषण करके अपने छात्रों के माध्यम से क्रांति लाने की शक्ति है। इसलिए शिक्षक छात्रों के जीवन में सबसे महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है, वह छात्रों को प्रेरित करके सही  मार्गदर्शन करता है और छात्रों की जरूरतों और समस्याओं को भी समझता है और सर्वोत्तम समाधान प्रदान करके इसका समाधान करता है। शिक्षक का मिलनसार स्वभाव वाकई काबिले तारीफ है। इस प्रकार एक शिक्षक में वे सभी गुण होते हैं जिनके द्वारा वह किसी भी छात्र को सर्वोत्तम शिक्षा प्रदान करके और उसे प्रेरित करके उसका भाग्य बदल सकता है। भारतीय समाज में गुरु का स्थान ऊँचे पद पर आसीन था। शास्त्रों में, गुरु को अक्सर भगवान के समान माना गया है। यहां तक कि सामाजिक-धार्मिक सुधारकों ने भी अपने जीवन में गुरुओं की सर्वोत्कृष्टता पर टिप्पणी की। गुरु को न केवल एक मार्गदर्शक, शिक्षक, मित्र, सत्य साधक के रूप में देखा गया है, बल्कि एक ऐसा व्यक्ति भी है जो ब्रह्मांड में किसी की क्षमता और स्थान को महसूस करने में सक्षम बनाता है।

    बच्चे और मानव के भविष्य को आकार देने में शिक्षक की भूमिका अधिक महत्वपूर्ण  रही। वर्तमान में समाज ने मानवीय स्पर्श खो दिया है – करुणा, सहानुभूति, मूल उद्देश्य और सहिष्णुता का सार, अब समय आ गया है कि ऐसे मूल्यों को बच्चों में विकसित किया जाए। इस संदर्भ में गुरु महत्वपूर्ण है। सामाजिक मूल्य, सद्भाव, उत्कृष्टता की भावना समय की मांग है। इसलिए शिक्षक की भूमिका केवल पाठ्य विकास तक ही सीमित नहीं है, बल्कि मानव आत्म के समग्र विकास तक – सामाजिक, आर्थिक, राजनीतिक और प्रासंगिक – अधिकतम क्षमता की प्राप्ति के लिए है। भारत में अनादि काल से गुरु-शिष्य परम्परा विद्यमान रही है।  शिष्यों के सभी मुद्दों के लिए गुरु एकल बिंदु संदर्भ हुआ करते थे और साथ ही वे मूल्यों और गुणों के प्रतीक थे और उन्हें विद्यार्थियों में स्थापित करना उनका कर्तव्य था। नैतिक और नैतिक मूल्यों में बहुत उच्च आदर्शों पर नागरिकों का एक वर्ग बनाना, अहिंसा और सहानुभूति का प्रचार करना और विद्यार्थियों को गरीबी, दर्द और समाज की जरूरतों के प्रति संवेदनशील बनाना था। आजकल यह सब लुप्त हो रहा है और स्कूल रटने वाले लेकिन बौद्धिक पक्ष की कमी के साथ यांत्रिक छात्रों को पैदा कर रहे हैं। आधुनिक समय के शिक्षक स्वयं मूल्य प्रणालियों में अच्छी तरह से सुसज्जित नहीं हैं और अक्सर राजनीतिक विचारधाराओं के अग्रदूत होते हैं जो शिक्षण को प्रचार से बदल देते हैं और छात्रों और राष्ट्र दोनों के लिए खतरनाक होते हैं।

    समय की मांग है कि शिक्षकों को उचित प्रशिक्षण दिया जाए और उन्हें सख्ती से निर्देश दिया जाए कि वे प्रचार में न उलझें, बल्कि संविधान में निहित धर्मनिरपेक्षता और समावेशिता के सिद्धांतों पर बच्चों के दिमाग का विकास करें।  भारतीय समाज में शिक्षक को ईश्वर के समान स्थान दिया गया है। बच्चों के दूसरे अभिभावक माने जाने वाले शिक्षक की तुलना अक्सर अंधेरे में आशा के प्रकाश से की जाती है। मनुष्य की नींव बनाने में उनके द्वारा निभाई गई बहुत महत्वपूर्ण भूमिका के कारण शिक्षक को बहुत उच्च स्थान पर रखा गया है। न केवल ज्ञान बल्कि वे व्यक्ति के  नैतिक, सामाजिक मूल्यों के स्रोत भी हैं। भारत को गुरु-शिष्य संबंध  की एक महान परंपरा विरासत में मिली है। माता-पिता जन्म देते हैं शिक्षक छात्र को मूल्य और चरित्र सम्मान देते हैं। हमें याद नहीं है कि शिक्षक ने क्या पढ़ाया है लेकिन शिक्षक कैसा है, याद रहता है इसलिए शिक्षक रोल मॉडल बनकर इस उम्र में अनुशासन और चरित्र के मूल्यों को विकसित करता है, बच्चे जो देखते हैं उसे दोहराते हैं। शिक्षक को यह नहीं सिखाना चाहिए कि क्या सोचना है बल्कि कैसे सोचना है ताकि व्यक्तिगत लक्षण विकसित हों। शिक्षक को चाहिए कि वह बच्चे की सीमाओं को आगे बढ़ाए और उन्हें खुद का अन्वेषण करने में सक्षम बनाए। शिक्षक को प्रश्न करने की प्रवृत्ति को प्रोत्साहित करना चाहिए। लीक से हटकर सोच के कन्फ्यूशियंस ने वही किया और अब्दुल कलाम हमेशा प्रश्न उठाते रहे, सरल शब्दों में एक शिक्षक को बच्चों के आत्म विकास के लिए एक आईना रखना चाहिए।

    प्रियंका सौरभ
    प्रियंका सौरभ
    रिसर्च स्कॉलर इन पोलिटिकल साइंस, कवयित्री, स्वतंत्र पत्रकार एवं स्तंभकार

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    Must Read