महिला दिवस


महिला दिवस आज है,सुनो पवन कुमार।
बल बुद्धि विद्या ये देवे,हरे क्लेश विकार।।

महिलाओं ने किया है,तीनों लोको मे नाम उजागर।
इन्हीं के कारण से पार होता सब का ये भवसागर।।

महिलाओं ने बनाए हैं विश्व में अनेकों कीर्तिमान।
उनको मिलते रहते है,विश्व में अनेकों ही सम्मान।।

महिलाए नहीं होती ये पुरुष भी कभी न होता।
इस सृष्टि मे आज इतना जीवन आदि न होता।।

महिलाओं के कारण ही सब रिश्ते नाते बनते।
चाची मामी ताई भाभी इन्हीं से ही सब बनते।।

महिलाओं के बिना न चले गृहस्थ की गाड़ी।
पुरुष अकेला चला नहीं सकता है ये गाड़ी।।

महिला हर क्षेत्र में,पुरुषों से रही हैं बहुत आगे।
शिक्षा के क्षेत्र में रही हैं, हमेशा आगे ही आगे।

लक्ष्मी पार्वती सरस्वती सभी महिलाओं के नाम।
ब्रह्मा विष्णु महेश संग करती सृष्टि का ये निर्माण।।

महिलाओं ने बनाई है अनेकों इस जग में पहचान।
बहन बेटी मां सास बहु आदि है इनके सब नाम।।

महिला शक्ति की दाता है,करती सबका उपकार।
प्रभु कैसे वयक्त करे ,इनका हम सब ये आभार।।

आर के रस्तोगी

Leave a Reply

%d bloggers like this: