लेखक परिचय

अमित शर्मा (CA)

अमित शर्मा (CA)

पेशे से चार्टर्ड अकाउंटेंट और कंपनी सेक्रेटरी। वर्तमान में एक जर्मन एमएनसी में कार्यरत। व्यंग लिखने का शौक.....

Posted On by &filed under व्यंग्य, साहित्‍य.


BA-Pass-1-300x140
अच्छी शिक्षा-दीक्षा प्राप्त करना प्रत्येक नागरिक का सविंधान प्रदत्त अधिकार है , हालांकी आज के माहौल में शिक्षा प्राप्त करने के प्रयासों और उन प्रयासों से प्राप्त सफलता को देखते हुए लगता है की सविंधान निर्माताओं ने “राइट टू एजुकेशन” देकर सविंधान को ना केवल नीरस होने से बचाया है बल्कि आने वाली पीढ़ियों को अपने हास्य बोध का भी परिचय दिया है। इस तरह से सविंधान और इसके निर्माताओं ने ना केवल हमारे अधिकारों और कर्तव्यो को सुरक्षित रखा है बल्कि हमारे मनोरंजन का भी ख्याल रखा है। आज के समय में “मुंह में रजनीगंधा और कदमो में दुनिया” हो या ना हो लेकिन हाथ में डिग्री होना बहुत ज़रूरी है और हाथ में ड्रिग्री होने के लिए आपका हाथ “ढाई किलो” का होना भी ज़रूरी नहीं है, हाँ लेकिन हाथ में डिग्री के लिए थोड़ी “हाथ की सफाई” मददगार होती है. आज़ादी के बाद से ही हमने ज़्यादातर समय समाज और देश का भला करते हुए “हाथ” की सफाई देखी है।
डिग्री और मार्क्स को लेकर हम भारतीयों का दीवानापन, विजय माल्या और ललित मोदी की तरह किसी से छुपा हुआ नहीं है. हर इंसान अंक के पंख लगाकर सफलता की उड़ान भरना चाहता है। हम बचपन से सुनते आये है की हर माँ-बाप का एक ही सपना होता है (जिसे वो खुली आँखों और कई बार खाली जेब से भी देखते है) की उनके बच्चे पढ़-लिखकर, कोई बड़ी डिग्री लेकर, अच्छी नौकरी कर, उनका नाम (ऋतिक) रोशन करे , लेकिन हर प्रोफेशन में डिग्रीयो की बंदरबाट ने प्रतिभा की वाट लगा दी है। वैसे डिग्री लेने का सबसे बड़ा फायदा ये है की अगर डिग्री लेकर अच्छी नौकरी मिले जाये तो पैसे मिलने लगते है और डिग्री लेकर नौकरी ना भी मिले तो घरवालों और रिश्तेदारों के ताने मिलना शुरू हो जाते है। मतलब कुछ ना कुछ तो मिलने ही लगता है और इस तरह डिग्री अगर बेस्ट ना भी निकले तो उसे बिलकुल वेस्ट तो नहीं कहाँ जा सकता है क्योंकि आजकल डिग्री बनाने में अच्छे कागज का इस्तेमाल हो रहा है जो समोसा से लेकर बड़ा -पाव तक, सबका तेल सोख सकता है।
शौक बड़ी चीज़ है इसीलिए हम सफलता को डिग्रीयों से मापने के शौक़ीन है कोई इंसान भले ही बिना किसी डिग्री के मंगल ग्रह पर पहुँच कर पानी की खोज कर दे लेकिन शर्म से पानी पानी हुए बिना, हम भारतीय उसके मंगल की कामना उसकी दसवी और बारहवीं की मार्कशीट में विज्ञानं और गणित के अंक खोजने के बाद ही करेंगे। भले ही कोई बंदा चंदा मामा तक पहुँच जाये लेकिन उसकी तारीफ करने से पहले हम ये ज़रूर जानना चाहेंगे की उस बन्दे ने कॉलेज में एडमिशन के लिए कितना चंदा दिया था। जहाँ चाह ,वहां राह इसीलिए जिनको पढ़ लिख कर डिग्री नहीं मिलती वो डिग्री खरीद लेते है , चूँकि पैसा बिना स्पीकर के ही बोलता है इसलिए डिग्री के साथ कभी कभी थर्ड डिग्री भी बोनस स्वरुप मिल सकती है। डिग्री खरीदने वाले लोग, खुद्दार होते है , वो अंको और डिग्री के लिए पढाई -लिखाई पर निर्भर नहीं रहते है, वो खुद तय करते है उन्हें कितने अंक, कौनसी डिग्री और कौनसी यूनिवर्सिटी से डिग्री चाहिए। देश का स्वाभिमान और खुद्दारी बचाए रखने में ऐसे लोग अपनी महती भूमिका निभा रहे है।
चुनाव के समय बुद्धिजीवी और जातिवाद विरोधी पत्रकार भले ही गाँव -गाँव जाकर लोगो की जाती पूछते हो लेकिन लड़की वाले तो सदियों से लड़के के घर का पता और लड़के की डिग्री ही पूछते आ रहे है। वैसे ज़माना भी पूछ -पूछ कर पूँछ हिलाने वालो का ही है । लड़की वाले पहले डिग्री मांगते है और उसके जवाब में फिर लड़के वाले दहेज़ मांगते है और बाद में लड़की वाले पनाह मांगते है । ये माँगने का सिलसिला मंगनी तक चलता रहता है। डिग्री का दीवानापन ऐसा, मानो लड़का शादी के समय लड़की के गले में वरमाला नहीं डिग्री पहनाएगा और लड़की, लड़के के बदले डिग्री के साथ 7फेरे लेगी । हमारे यहाँ शादियो में काली मेहँदी से लेकर दलेर मेंहदी और डिग्रीयों का प्रयोग भूतकाल से प्रचलित है।
हमारे देश में मांगने वाले हमेशा से ग़लतफ़हमी और चर्चा में रहते है. मांगने वालो ने काले धन वाले 15 लाख, आज़ाद देश में आज़ादी , फ्री वाई-फाई और क्या क्या नहीं माँगा, लेकिन मांग कभी पूरी नहीं होती , हाँ भर ज़रूर दी जाती है । अब तो अपने झूठे वादों से जनता को पानी पिलाने वाले लोग भी चाय पिलाने वालो की डिग्री मांग रहे है। अपने राज्य की सारी समस्याओं और उनके समाधानों से कोसो दूर , सबको कोसते हुए , एक आई. आई. टी. पास आउट , पूर्व इनकम टैक्स कमिश्श्नर, मुख्यमंत्री , एम.ए. पास प्रधानमंत्री की डिग्री चेक करना चाहता है यहीं हमारे लोकतंत्र की खूबसूरती है , इससे हमारा संघीय ढांचा मजबूत होता है और केंद्र और राज्यों के बीच संबंध मधुर होते है जो जनता से किये हुए वादे पूरे करने से कभी नहीं हो सकते है।
प्रधानमंत्री की डिग्री प्रामाणिक निकलने से ना केवल देश का निर्यात और विदेशी मुद्रा कोष बढ़ेगा बल्कि डॉलर के मुकाबले रूपया भी मजबूत होगा। साथ ही साथ गरीबी और भ्रष्टाचार पर भी ठीक उसी तरह से लगाम लगेगी जिस तरह से पावर प्ले ख़त्म होने पर चौके -छक्कों पर लगती है। इसके ठीक उलट, डिग्री फ़र्ज़ी निकलने पर देश में अराजकता फ़ैल सकती है और आपातकाल जैसा माहौल बन सकता है।
समय के साथ हमारे राजनेता के विचारों ने भी करवट ली है पहले वो सीधा इस्तीफा मांगते थे लेकिन अब पहले डिग्री मांगते है फिर इस्तीफा , मतलब उन्होंने ना केवल अपने विचारों को ऊपर उठाया है बल्कि इस्तीफे का मूल्य भी बढ़ा दिया है। लोकतंत्र में 5 साल का समय बहुत लंबा होता है लेकिन अगर इसी तरह से सत्तापक्ष और विपक्ष के लोग एक दूसरे की डिग्री चेक करते रहे तो 5 साल का समय हँसते -खेलते हुए सौहार्दपूर्ण वातावरण में बीत जाएगा और डिग्रियों की प्रामाणिकता भी बढ़ेगी।

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz