लेखक परिचय

श्याम नारायण रंगा

श्याम नारायण रंगा

नाथूसर गेट पुष्करना स्टेडियम के नजदीक बीकानेर (राजस्थान) - 334004 MOB. 09950050079

Posted On by &filed under लेख.


श्याम नारायण रंगा ‘अभिमन्यु’

हाल ही में राहुल गांधी ने उत्तरप्रदेश की एक चुनावी सभा में प्रश्न खड़ा किया है कि यूपी के युवा कब तक महाराष्ट्र जाकर भीख मांगते रहेंगे। चुनावी सियासत में इस प्रश्न पर भारी बवाल मचा हुआ है। कोई यह यूपी का अपमान बता रहा है तो कोई इसे युवाओं का अपमान कह रहा है परन्तु वास्तव में अगर गौर किया जाए तो वर्तमान समय में यह एक बड़ी समस्या है कि इस देश का युवा बेराजगार है और वह रोजगार की तलाश में यहाँ वहाँ दर दर की ठोकरें खा रहा है। हालात ऐसे पैदा हो गए हैं कि जब एक व्यक्ति अपने घर को छोड़कर किसी दूसरी जगह पर नौकरी करने जाता है तो वहाँ के स्थानीय लोगों के साथ व स्थानीय सत्ता के साथ उसका संघर्ष पैदा होता है। हमारे संविधान ने प्रत्येक नागरिक को यह मूल अधिकार प्रदान किया है कि प्रत्येक नागरिक इस देश के किसी भी कोने में जाकर अपनी आजीविका कमा सकता है और रोजगार कर सकता है परन्तु जब वह काम करने के लिए बाहर जाता है तो उसे बिहारी, मारवाड़ी, आसामी आदि कहकर दूसरे राज्यों से भगा दिया जाता है। सभी जानते हैं कि महाराष्ट्र में शिवसेना उत्तर भारतीयों को रोजगार न देने की हिमायत करती है और वहाँ के उत्तर भारतीयों के साथ मारपीट की जाती है ताकि वे वहाँ से भाग जाए। आज बिहारी व मारवाड़ी भारत के प्रत्येक कोने में आपको मिल जाएंगे लेकिन वे वहाँ किन परिस्थितियों में काम कर रहें हैं इसका अंदाजा भी अपने घर बैठा आदमी नहीं लगा सकता है। अपने घर से बाहर या यूं कहे अपने क्षेत्र से बाहर जाकर नौकरी करने वाला आदमी भले ही कितने ही पैसे कमा ले लेकिन उसे बेइज्जत होना पड़ता है और उसे दब कर काम करना पड़ता है। परिस्थितयां ये है कि करोड़पति मारवाड़ी व आसामी भी स्थानीय गूंडे, बादमाशों को व स्थानीय सत्ता के लोगों को पैसे देकर काम करते हैं और अगर वो लोग पैसे देने से इंकार कर दें इन आसामियों, मारवाड़ियों व बिहारियों की बेइज्जती की जाती है और उनके साथ मारपीट की जाती है। सभी जानते हैं कि एक समय में आसाम से मारवाड़ियों को मारकर भगा दिया गया था और वर्तमान में यही काम महाराष्ट्र में हो रहा है। यहाँ बात सिर्फ मारवाड़ियों व आसामियों व बिहारियों की नहीं है ये तो सिर्फ प्रतीक मात्र है। बिहार व राजस्थान मे दूसरे प्रदेश से आए लोगों को विकट परिस्थितियों का ही सामना करना पड़ता है। यह परिस्थितियां कुछ ज्यादा व कुछ कम जरूर हो सकती है। वास्तव में होता यह है कि स्थानीय लोग जब बेरोजगार होते हैं और बाहर का आदमी आकर वहीं काम लग जाता है तो स्थानीय लोगों को लगता है कि हमारे ही शहर में आकर दूसरा आदमी तो काम करें और हम बेरोजगार रहे तो यह भावना पैदा होती है। जैसे एक मारवाड़ी किसी दूसरे राज्य में जाकर काम करेगा तो वहाँ वह सेठ बन जाएगा और अपना धंधा जमाएगा और पैसे कमाएगा तो वहाँ के स्थानीय लोगों के मन में यह बात आती है कि बाहर का आदमी हमारे यहाँ आकर करोड़ों कमा रहा है और हम जो स्थानीय लोग है उसकी नौकरी कर रहें हैं, उसकी गुलामी कर रहें हैं तो ऐसी सोच स्थानीय लोगों में हीन भावना पैदा करती है और यही सोच आपसी टकराहट का कारण बनती है।

अब अगर इन दोनों ही परिस्थितियों पर गौर किया जाए तो यह बात सामने आती है कि जो व्यक्ति अपने घर को छोड़कर बाहर आया है वह बेरोजगारी का शिकार है और जो व्यक्ति हीन भावना से ग्रस्त हो रहा है वह काम न मिलने के कारण या काम के अनुसार मजदूरी न मिलने के कारण बेरोजगारी का शिकार है अर्थात् दोनों ही जगह बेरोजगारी ही आपसी टकराहट का कारण बनती है।

ऐसी स्थिति में सत्ता में बैठे जन प्रतिनिधियों व सरकार चलाने वाले हुक्मरानों को चाहिए कि वे रोजगार के अवसर पैदा करें और ऐसी स्थितियां पैदा करें कि किसी व्यक्ति को अपना राज्य या शहर छोड़कर जाना ही न पड़े और अगर कोई व्यक्ति अपना शहर या राज्य छोड़कर आता है तो उसको ऐसा माहौल मिले कि वह निर्भिकता से व ईमानदारी से काम कर सके। अब यह काम कैसे हो यह जिम्मेदारी लोकतांत्रिक व्यवस्था में तंत्र की है। अगर आम जन मे हीन भावना समाप्त हो जाएगी तो आपसी टकराहट की स्थितियां स्वतः ही समाप्त हो जाएगी। राज्य की जिम्मेदारी है कि वह नागरिकों को गरिमा के साथ जीने के अवसर प्रदान करें और आजीविका कमाने के अवसरों को प्रदान करें। अगर ऐसा नहीं हो पाता है तो संवैधानिक तौर पर यह राज्य की विफलता का प्रतीक है। भारत एक राष्ट्र है और इसमें रहने वाला प्रत्येक नागरिक भारतीय है न कि मारवाड़ी, आसामी और बिहारी आदि आदि। ऐसी स्थिति में अगर किसी भी राज्य में जाति को लेकर व वर्ग को लेकर संघर्ष होता है तो इस संघर्ष को रोकने की जिम्मेदारी सरकार की बन जाती है। भयमुक्त माहौल को पैदा करें और आमजन अपने जीवन को जी सकें। अन्यथा राहुल गांधी का कहा यह कथन सही होगा कि किसी दूसरे राज्य में जाकर काम करना भीख मांगने के समान ही है और भीख के भरोसे कब तक रहा जाएगा।

Leave a Reply

1 Comment on "आपसी टकराहट के बीच रोजगार भीख तो नहीं !"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
Bipin Kumar Sinha
Guest

राहुल का कहना है की तुम हमें वोट दो हम तुम्हे भीख मगवाना बंद करवा देंगे
बिपिन

wpDiscuz