लेखक परिचय

नवनीत कुमार गुप्‍ता

नवनीत कुमार गुप्‍ता

लेखक विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय, भारत सरकार के अधीन स्वायत्त संगठन 'विज्ञान प्रसार' में प्रॉजेक्ट अधिकारी (एडूसेट) के पद पर कार्यरत हैं तथा वर्ष 2010 में इन्हें ''ग्लोबल वार्मिंग का समाधान गांधीगीरी'' पुस्तक के लिए पर्यावरण एवं वन मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा प्रथम मेदिनी पुरस्कार से सम्मानित किया जा चुका है।

Posted On by &filed under पर्यावरण.


(19-22 जनवरी, 2012 के दौरान गुजरात में आयोजित द्वितीय ग्लोबल बर्ड वाचर्स कांफ्रेंस पर आधारित लेख)

नवनीत कुमार गुप्ता

ठंड का मौसम पक्षी निहारकों के लिए सर्वाधिक रोमांचकारी होता है। इसी मौसम में विदेशों से आए प्रवासी पक्षी नदियों, झीलों और नमभूमियों (आद्रभूमि) के आसपास डेरा डाले होते हैं। जिसे करीब से देखना किसी भी पक्षी प्रेमी के लिए अदभुत क्षण होता है। ऐसे अवसरों का सहारा लेकर अनेक राज्यों में इको-पर्यटन पर भी ध्यान दिया जा रहा है। इसी को बढ़ावा देने के मकसद से गुजरात सरकार तथा फिक्की के संयुक्त प्रयास से 19-22 जनवरी तक गांधीनगर में द्वितीय ग्लोबल बर्ड वाचर्स कांफ्रेंस का आयोजन किया गया। जिसमें भारत के करीब 400 पक्षी प्रेमियों के अलावा 38 विभिन्न देशों से आए लगभग 100 प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया। कार्यक्रम में जहां विशेष रूप से इको-टूरिज्म को बढ़ावा देने की बात कहीं गर्इ। वहीं इस बात पर भी ध्यान केंद्रित किया गया कि भौगोलिक सीमाओं से परे पक्षियों और मानव के मध्य एक अटूट संबंध है जिसे समझने की आवश्य कता है। अनेक पक्षी हजारों किलोमीटर की यात्राएं कर एक देश से दूसरे देश की यात्राएं करते हैं। गुजरात में इस प्रकार के कांफ्रेंस का आयोजन उसके भौगोलिक दृशिट से काफी मायने रखता है। गुजरात राज्य में अनेक नमभूमि क्षेत्र है जिनके कारण वहां भारी संख्या में प्रवासी पक्षी डेरा डालते हैं। नमभूमि का अर्थ है नमी या दलदली क्षेत्र। वह क्षेत्र जिसका सारा या थोड़ा भाग वर्ष भर जल से भरा रहता है नमभूमि कहलाता है। इस प्रकार नमभूमि जैव विविधता संरक्षण के लिए महत्वपूर्ण है। दलदल बहुत सारे विलुप्त प्राय: जीव का ठिकाना है। हमारे देश की पारिसिथतिकी सुरक्षा में इन दलदलों की अहम भूमिका है। खाधान्नों की कमी और जलवायु परिवर्तन के बढ़ते खतरों के बीच हमें दलदलों को बचाने की जरूरत है ताकि वे अपनी पारिसिथतिकी भूमिका निभा सकें। नमभूमि की मिटटी झील, नदी, विशाल तालाब के किनारे का हिस्सा होता है जहां भरपूर नमी पार्इ जाती है। इसके कर्इ लाभ भी हैं। नमभूमि जल को प्रदूषण से मुक्त बनाता है।

नमभूमि धरती की भू-सतह के लगभग 6 प्रतिशत भाग पर फैली हुर्इ है। नमभूमि में झीलें, नाले, सोता, तालाब और प्रवाल क्षेत्र शामिल होते हैं। भारत में नमभूमि ठंडे और शुष्क इलाकों से होकर मध्य भारत के कटिबंधी मानसूनी इलाकों और दक्षिण के नमी वाले इलाकों तक में फैली हुर्इ है। नमभूमियां प्राकृतिक संतुलन को बनाए रखने में अहम भूमिका निभाती है। बाढ़ नियंत्रण में भी इसकी भूमिका महत्वपूर्ण होती है। जहां यह तलछट का काम करती है जिससे बाढ़ जैसी विपदा में कमी आती है। नमभूमि शुष्क मौसम के दौरान पानी को सहजे रखती है वहीं बाढ़ के दौरान यह पानी का स्तर कम बनाए रखने में सहायक होती है। इसके अलावा ऐसे समय में नमभूमि पानी में मौजूद तलछत और पोषक तत्वों को अपने में समा लेती है और सीधे नदी में जाने से रोकती है। इस प्रकार झील, तालाब या नदी के पानी की गुणवत्ता बनी रहती है। नमभूमियां जैवविविधता को सुरक्षित बनाए रखने में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है साथ ही यह शीतकालीन पक्षियों और विभिन्न जीव-जंतुओं का आश्रय स्थल होती हैं। विभिन्न प्रकार की मछलियां और जंतुओं के प्रजनन के लिए भी यह भूमि उपयुक्त होती है। विषेश बात यह है कि नमभूमि में समुद्री तूफान और आंधी के प्रभाव को सहन करने की क्षमता होती है। समुद्री तटरेखा को सिथर बनाए रखने में भी इसका महत्वपूर्ण योगदान होता है। जो समुद्र की धारा से होने वाले कटाव से तटबंध की रक्षा करती हैं। नमभूमियां अपने आसपास बसी मानव बसितयों के लिए जलावन, फल, वनस्पतियां, पौषिटक चारा और जड़ी-बूटियों को स्रोत होती हैं। कमल जो कि दुनिया के कुछ विशेष सुंदर फूल होने के साथ ही भारत का राष्ट्रीय फूल है इसी नमभूमियों में ही उगता है। वास्तव में नमभूमियां पानी के संरक्षण का एक प्रमुख स्रोत है। इन नम भूमियों पर विशेष मौसम में कर्इ पक्षी आते हैं। पक्षियों का कलरव और रंग रूप, हमेशा से पक्षी निहारकों को अपनी ओर आकर्षित करते रहे हैं। जैव विविधता के मामले में भी इसके विषेश योगदान से इंकार नहीं किया जा सकता है। गुजरात स्थित नलसरोवर, थोल, वेलावदार, तारापुर एवं भरतपुर स्थित केऊलादेव पक्षी विहार कर्इ प्रवासी पक्षियों की पसंदीदा स्थल है।

भारत में ऐसे कर्इ उदाहरण मौजूद हैं जहां नमभूमियों की बर्बादी के साथ ही जंगली जानवरों या पौधों के असितत्व पर संकट मंडरा रहा है। उत्तर प्रदेश, पश्चिम बंगाल के दलदली क्षेत्र में ‘दलदली हिरण पाया जाता है। यह हिरण भी कम हो रहा है। इस प्रजाति के हिरणों की संख्या लगभग एक हजार बची है। इसी प्रकार तरार्इ वाले क्षेत्रों में पार्इ जाने वाली फिशिंग कैट यानी मच्छीमार बिल्ली पर भी बुरा असल पड़ रहा है। इसके साथ ही गुजरात के कच्छ क्षेत्र में जंगली गधा भी खतरे में है। असम के काजीरंगा और मानव दलदलीय क्षेत्रों से जुड़ा एक सींग वाला भारतीय गैंड़ा भी विलुप्तप्राय प्राणियों की श्रेणी में शामिल है। इसी प्रकार अनेक ऐसे जीव जो नमभूमियों से जुड़े हैं संकट में है जैसे ओटर, गैंजेटिक डालिफन, डूरोंग, एशियार्इ जलीय भैस आदि। नमभूमियां प्रवासी पक्षियों की पनाहस्थली के रूप में विख्यात हैै। ऐसे क्षेत्र पटट शीर्ष राजहंस, पनकौआ, बायर्स वाचार्ड, ओस्प्रे, इंडियन सिकम्मर, श्याम गर्दनी बगुला, संगमरमरी टील, बंगाली फ्लोरीकान पक्षियों का मनपसंद स्थल होते हैं। रेंगने वाले जीव जैसे समुद्री कछुआ, घडि़याल, मगरमच्छ, जैतूनी रिडली और जलीय मानीटर पर भी नमभूमियों के प्रदूषित होने के कारण संकट मंडरा रहा है। जीवों के अतिरिक्त कुछ वनस्पतियां भी नमभूमि के संकट से प्रभावित हो रही हैं। कर्इ सारे वनस्पति, सरीसृप, पक्षियों और जनजाति आदि की निवास स्थली यह नम भूमियां बढ़ते प्रदूषण, बिगड़ती जलवायु, विकास के दुष्परिणामों आदि के कारण अपना स्वरूप खोती जा रही हैं ।

भारत में नमभूमि के संरक्षण के लिए पर्यावरण मंत्रालय द्वारा 1987 से एक कार्यक्रम चलाया जा रहा है। इस कार्यक्रम के अंतर्गत अभी तक 15 राज्यों में 27 नमभूमि क्षेत्र चिनिहत किए गए हैं। इनके अंतर्गत पंजाब में कंजली और हिरके, उड़ीसा में चिल्का, मणिपुर में लाकटक, चंडीगढ़ में सुखना और हिमाचल में रेणुका क्षेत्र हैं। इन जगहों में संरक्षण और उनके बारे में जागरुकता लाने का प्रयास किए जा रहे हैं। इसके अलावा केवलादेव राष्ट्रीय उधान, सुन्दरवन, मनास और काजीरंगा को ‘अंतर्राष्ट्रीय विरासत का दर्जा दिया गया है। इन क्षेत्रों में देश-विदेश के मेहमान पक्षी आते हैं। जिन्हें बचाने के लिए अंतर्राष्ट्रीय पर प्रयास किए जा रहे हैं। नमभूमियां पर प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से लाखों व्यकितयों का जीवन आश्रित होने के साथ ही यह सामाजिक व सांस्कृोतिक महत्व का प्रतीक भी है। साथ ही यह जल संरक्षण में अहम भूमिका निभाती है और प्रवासी पक्षियों का बसेरा बन कर पक्षी प्रेमियों के आनंद का कारण बनती हैं। इसलिए नमभूमियों के संरक्षण में प्रत्येक व्यकित को अपना योगदान देकर इन अनोखे पारिस्थितिकी तंत्र का बचाए रखना होगा। भारत में प्रवासी पक्षियों का मेहमान की तरह स्वागत करने की संस्कृरति रही है। जिसे हमें निरंतर आगे बढ़ाने की आवश्यककता है ताकि प्रकृति के सुंदर पक्षियों के माध्यम से पूरे विष्व के नागरिकों के मध्य भी प्रेम भावना का प्रसार हो सके। (चरखा फीचर्स)

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz