केंसर एक जानलेवा बीमारी कारण और निदान

Posted On by & filed under समाज, स्‍वास्‍थ्‍य-योग

डॉ सौरभ मालवीय आधुनिक जीवन शैली और दोषपूर्ण खान-पान के चलते विश्वभर में हर साल लाखों लोग केंसर जैसे बीमारी की चपेट में आ रहे है और असमय ही काल कवलित हो जाते है, विश्व स्वास्थ्य संगठन की एक रिपोर्ट के अनुसार दुनिया के बाकी देशों के मुक़ाबले भारत में केंसर रोग से प्रभावितों की… Read more »

एमआरआई जैसी पहल के लिए सरकार का धन्यवाद

Posted On by & filed under विविधा, स्‍वास्‍थ्‍य-योग

डॉ. मयंक चतुर्वेदी स्वास्थ्य किसी भी देश के लिए उसकी रीढ़ की हड्डी से कम नहीं। स्वस्थ शरीर देश के विकास में हर संभव योगदान देने का आधार है, यदि यह भी कहा जाए तो कुछ गलत न होगा। दुनिया के तमाम देशों ने अपने यहां की आवाम के लिए जिन बुनियादी सुविधाओं पर ध्यान… Read more »

मौजूदा चिकित्सा परिदृश्य और आम आदमी का स्वास्थ्य

Posted On by & filed under विविधा, स्‍वास्‍थ्‍य-योग

मिलन सिन्हा आम आदमी का स्वास्थ्य दिन –पर –दिन गंभीर चिंता का विषय बनता जा रहा है. पीने योग्य पानी का अभाव, प्रदूषित हवा और मिलावटी खाद्य पदार्थ ने आम आदमी के जीवन को छोटे- बड़े रोगों से भर दिया है. बच्चे, महिलायें तथा बुजुर्ग इनसे अपेक्षाकृत ज्यादा प्रभावित हैं. आधुनिक चिकित्सा पद्धति को आधार… Read more »

डॉक्टरों की योग्यता पर उठते सवाल?

Posted On by & filed under जन-जागरण, विविधा, स्‍वास्‍थ्‍य-योग

एलोपैथिक डॉक्टरों की योग्यता पर अब सवालिया निशान उठने शुरू गय हैं और क्यों न हो जो एलोपैथिक आंकड़े उनकी योग्यता पर सामने आये हैं वो रोमटे खड़े करने वाले हैं। भारत में डॉक्टरों के मामले अकसर सामने आते रहते हैं लकिन जो आंकड़ों से अब हम रूबरू होने जा रहे हैं वो एक दम… Read more »

स्वास्थ्य और चिकित्सा शिक्षा

Posted On by & filed under विविधा, स्‍वास्‍थ्‍य-योग

डा. राधेश्याम द्विवेदी स्वास्थ्य का तात्पर्य रोगों से मुक्ति मात्र नहीं, निरोगी काया की रचना करना है। ऐलोपैथी हालांकि तुरंत परिणाम का दावा करती है, पर वह रोगों की जड़ समाप्ति की बात नहीं करती। भारत जैसे विशाल देश में, जहां लगभग सत्तर प्रतिशत जनसंख्या आज भी गांवों में रहती है, वैकल्पिक चिकित्सा का ज्ञान,… Read more »

जीवन को बदलो-यही है योग दिवस का उद्घोष

Posted On by & filed under समाज, स्‍वास्‍थ्‍य-योग

ललित गर्ग – आज की तेज रफ्तार जिंदगी मनुष्य को अशांति, असंतुलन, तनाव, थकान तथा चिड़चिड़ाहट की ओर धकेल रही हैं, जिससे अस्त-व्यस्तता बढ़ रही है। ऐसी विषमता एवं विसंगतिपूर्ण जिंदगी को स्वस्थ तथा ऊर्जावान बनाये रखने के लिये योग एक ऐसी रामबाण दवा है जो, माइंड को कूल तथा बॉडी को फिट रखता है।… Read more »

मानव शरीर से खिलवाड़ कब तक

Posted On by & filed under विविधा, स्‍वास्‍थ्‍य-योग

प्रवीण दुबे दुनिया का सबसे बड़ा बाजार और उसका लाभ उठाने की आड़ में तमाम देशी-विदेशी खाद्य सामग्री उत्पादक कम्पनियां और विविध क्षेत्रों में कारोबार करने वाले उद्योगपति आम देशवासियों के स्वास्थ्य से खुलेआम खिलवाड़ कर रहे हैं। आखिर सरकार इसको लेकर कड़े नियम क्यों लागू नहीं करती? जो नियम हैं वो केवल कागजों तक… Read more »

भारत में बढ़ता कैंसर !

Posted On by & filed under समाज, स्‍वास्‍थ्‍य-योग

मोहम्मद आसिफ इकबाल इंडियन कांउसिल फार मेडिकल रिसर्च के मुताबिक भारत में तंबाकू सेवन से होन वाला कैंसर और सवाईकल कैंसर महामारी की तरह फैल रहा है। हर साल तंबाकू से जुड़े कैंसर के लगभग 3 लाख नए मामले सामने आते हैं। देश में रोज दो हजार लोग इससे मौत के मुंह में समा जाते… Read more »

विश्व हेपेटाइटिस दिवस

Posted On by & filed under विविधा, स्‍वास्‍थ्‍य-योग

डा- राधेश्याम द्विवेदी हेपेटाइटिस क्या है :- हेपेटाइटिस में लिवर में सूजन आ जाती है। यह परिस्थिति लिवर तक ही सीमित रहती है। कई बार यह गंभीर रूप धारण कर फिब्रोसिस अथवा लिवर कैंसर भी बन सकती है। हेपेटाइटिस वायरस, हेपेटाइटिस होने का सबसे बड़ा कारण होता है। हेपेटाइटिस के पांच मुख्य वायरस होते हैं।… Read more »

विश्व थैलेसिमिया दिवस

Posted On by & filed under विविधा, स्‍वास्‍थ्‍य-योग

डा. राधेश्याम द्विवेदी हँसने-खेलने और मस्ती करने की उम्र में बच्चों को लगातार अस्पतालों के, ब्लड बैंक के चक्कर काटने पड़ें तो सोचिए उनका और उनके परिजनों का क्या हाल होगा! सूखता चेहरा, लगातार बीमार रहना, वजन ना ब़ढ़ना और इसी तरह के कई लक्षण बच्चों में थेलेसीमिया रोग होने पर दिखाई देते हैं। माता-पिता… Read more »