भाई ने दिलाई बहन को शिक्षा

Posted On by & filed under सार्थक पहल

उषा चौधरी हजारी राम बाड़मेर जिला के खारा गांव का रहने वाला है। इसका एक छोटा भाई और एक बड़ी बहन है। हजारी राम 10 वीं कक्षा का छात्र है। वह युवा समूह की बैठकों से जुड़ा हुआ है। जहां अन्य मुद्दों के साथ-साथ सामाजिक विषयों पर भी चर्चा की जाती है। जब वह इस… Read more »

…यानि अब ट्रेफिक पुलिस की जेब ज्यादा गरम होगी

Posted On by & filed under सार्थक पहल

तकरीबन बाईस पुराने सेंट्रल मोटर वीइकल एक्ट में संशोधन के प्रस्तावित बिल को केंद्रीय कैबिनेट से मंजूरी मिलने के बाद एक ओर जहां यह उम्मीद की जा रही है कि इससे भारी अर्थ दंड से डर कर चालक ट्रेफिक नियमों की पालना के प्रति सजग होंगे, वहीं इस बात की भी आशंका है कि इससे… Read more »

मानवीय रिश्तों की गरिमा और अहमियत समझने की ज़रूरत है !

Posted On by & filed under सार्थक पहल

इक़बाल हिंदुस्तानी उस बूढ़ी मां की जान बचाकर मुझे बेशकीमती संतोष मिला है! आज पूंजीवाद और समाजवाद का अंतर धीरे धीरे हमारे सामने आने लगा है लेकिन दौलत और शौहरत के पुजारी मुट्ठीभर लोग इस सच्चाई को लगातार झुठलाने का प्रयास कर रहे हैं कि पैसा कमाने की होड़ समाज से रिश्ते नातों, धर्म, मर्यादा… Read more »

आओ बनें बाल अधिकार मित्र – रामकुमार विधार्थी

Posted On by & filed under सार्थक पहल

रेल्वे प्लेटफार्म पर           बाल अधिकार मित्र                                       M      F      T भोपाल                             30     5      35 इटारसी                            20     5      25 कटनी                              43     5      48 कुल                               93    15    108 बच्चों का एक ऐसा दोस्त जो बच्चों के कोमल मन को समझते हुए उनसे बात करे ,उनकी समस्याओं को हल करे उन्हें एैसा वातावरण प्रदान करे जो एक परिवार मे उन्हे मिलना चाहिये ………….. Read more »

‘वात्सल्य ग्राम’ की प्रयोगशाला

Posted On by & filed under धर्म-अध्यात्म, सार्थक पहल

ऋतेश पाठक अनाथों के नाथ विश्वनाथ के देश में अनाथों की लगातार बढ़ती संख्या आज चिंता का सबब बन रही है। गंभीर हालातों के मद्देनजर सरकारी स्तर पर खूब कागजी घोड़े दौड़ाये जा रहे हैं। ऐसे एकाकी और बेसहारा लोगों के बीच काम कर रही तमाम संस्थाओं में एक नाम है परमशक्ति पीठ का। पीठ… Read more »

तख्ती पे तख्ती, तख्ती पे दाना………..

Posted On by & filed under बच्चों का पन्ना, सार्थक पहल

॔॔तख्ती पे तख्ती, तख्ती पे दाना कल की छुटटी परसो को आना’’ पकर आज न जाने कितने लोग अपने बचपन में खो गये होगे। अब से लगभग तीन दशक पहले ज्यादातर बच्चे प्रारम्भिक शिक्षा सरकारी बेसिक प्राईमरी स्कूल में ही ग्रहण करते थे। मैने भी प्राईमरी शिक्षा सरकारी बेसिक प्राईमरी स्कूल में ही ग्रहण की… Read more »

बैंकों के दोहरे मापदंड

Posted On by & filed under विधि-कानून, सार्थक पहल

भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर डी सुब्बाराव ने अपने ताजा बयान में बैंकिंग सेवाओं का लाइसेंस लेने के लिए इच्छुक औघोगिक घरानों को कहा है कि उन्हें कमजोर वर्गों तक बैंकिंग की हर सुविधा मुहैया करवाने के शर्त पर ही लाइसेंस मिल पाएगा। उन्होंने यह भी कहा है कि यदि विदेशी बैंक भारत में अपना… Read more »

सांप्रदायिक सौहाद्र का प्रतीक बना एक और मुस्लिम उद्योगपति

Posted On by & filed under सार्थक पहल

निर्मल रानी राजस्थान स्थित रणथभौर नामक स्थान वैसे तो पूरे विश्व में देश के एकमात्र सबसे बड़े ‘टाइगर रिज़र्व क्षेत्र के रूप में जाना जाता है। परन्तु पिछले दिनों रणथभौर का यही क्षेत्र हिन्दू-मुस्लिम सा प्रदायिक सद्भाव का भी एक ज्वलंत उदाहरण बना। रणथभौर टाइगर रिज़र्व क्षेत्र के अन्तर्गत एक ऐतिहासिक एवं प्राचीन मंदिर स्थित… Read more »

जिला विकास संगम का संदर्भ एवं स्वरूप

Posted On by & filed under सार्थक पहल

के.एन. गोविन्दाचार्य प्रत्येक देश एवं समाज की एक तासीर होती है जो उसके इतिहास एवं भूगोल से बनती चली जाती है। इसे ही संस्कृति या सांस्वृफतिक विरासत कहा जा सकता है। तासीर में स्वभाव, गुणधर्म, जीवन दर्शन, जीवन शैली, जीवन लक्ष्य, जीवनमूल्य आदि की अभिव्यक्ति होती है। अलग-अलग तासीर होने के कारण विश्व में हर… Read more »

नाख़ुदा जिनका नहीं, उनका ख़ुदा होता है…

Posted On by & filed under सार्थक पहल

फ़िरदौस ख़ान किश्तियां सबकी पहुंच जाती हैं साहिल तक नाख़ुदा जिनका नहीं उनका ख़ुदा होता है जी, हां इन्हीं शब्दों को सार्थक कर रहे हैं हरियाणा के हिसार ज़िले के गांव कैमरी में स्थित श्रीकृष्ण प्रणामी बाल सेवा आश्रम के संस्थापक बाबा दयाल दास। क़रीब 40 साल पहले बाबा दयाल दास को रास्ते में एक… Read more »