लेखक परिचय

लिमटी खरे

लिमटी खरे

हमने मध्य प्रदेश के सिवनी जैसे छोटे जिले से निकलकर न जाने कितने शहरो की खाक छानने के बाद दिल्ली जैसे समंदर में गोते लगाने आरंभ किए हैं। हमने पत्रकारिता 1983 से आरंभ की, न जाने कितने पड़ाव देखने के उपरांत आज दिल्ली को अपना बसेरा बनाए हुए हैं। देश भर के न जाने कितने अखबारों, पत्रिकाओं, राजनेताओं की नौकरी करने के बाद अब फ्री लांसर पत्रकार के तौर पर जीवन यापन कर रहे हैं। हमारा अब तक का जीवन यायावर की भांति ही बीता है। पत्रकारिता को हमने पेशा बनाया है, किन्तु वर्तमान समय में पत्रकारिता के हालात पर रोना ही आता है। आज पत्रकारिता सेठ साहूकारों की लौंडी बनकर रह गई है। हमें इसे मुक्त कराना ही होगा, वरना आजाद हिन्दुस्तान में प्रजातंत्र का यह चौथा स्तंभ धराशायी होने में वक्त नहीं लगेगा. . . .

Posted On by &filed under राजनीति.


लिमटी खरे 

प्रणव पर ममता दिखाएंगी बनर्जी

राष्ट्रपति पद के संप्रग प्रत्याशी प्रणव मुखर्जी के पक्ष में अंतिम समय में ममता बनर्जी का दिल भी पसीज ही जाएगा। पूर्व वित्त मंत्री प्रणव मुखर्जी को रायसीना हिल्स पहुंचाने के पीछे जो कहानी सामने आ रही है उसे देखकर विपक्ष भी प्रणव का साथ देता नजर आ रहा है। पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के धुर विरोधी प्रणव के कार्यालय की होने वाली जासूसी के तार भी इससे जोड़कर देखे जा रहे हैं। सियासी गलियारों में इन दिनों यह बात जोर शोर से उछल रही है कि संवैधानिक व्यवस्था के कीड़े बन चुके प्रणव मुखर्जी को धुर बनाना कांग्रेस के लिए आसान नहीं होगा। प्रणव मुखर्जी 1984 से ही मन में प्रधानमंत्री ना बन पाने की पीड़ा रखे बैठे हैं। मुखर्जी के दिल में यह बात नश्तर की भांति ही चुभ रही है। कहा जा रहा है कि जैसे ही वे रायसीना हिल्स स्थिति राष्ट्रपति भवन में प्रवेश करेंगे सबसे पहले वे अपने विधायक पुत्र अभिजीत की तरक्की के मार्ग प्रशस्त कर कांग्रेस से चुन चुनकर बदला लेंगे। कांग्रेस को समूल नष्ट करने की इस योजना में विपक्ष प्रणव दा को पूरा समर्थन देता नजर आ रहा है। ममता बनर्जी तक भी इस बात की खबर है, जो जल्द ही अपनी ममता प्रणव पर उड़ेल सकती हैं।

युवराज की भद्द पिटवाती कांग्रेस!

बंद मुठ्ठी लाख की, खुली तो खाक की, की कहावत को चरितार्थ करते हुए कांग्रेस ही अपने युवराज राहुल गांधी की किरकिरी करवाने में कोई कसर नहीं रख छोड़ रही है। कांग्रेस के अंदर ही अंदर एक के बाद एक एक कर गांधी परिवार के खिलाफ सुर बुलंद हो रहे हैं जिससे स्थिति विफोटक होती जा रही है। जैसे ही कांग्रेस ने प्रणव मुखर्जी का नाम आगे बढ़ाया वैसे ही प्रणव के राजीव विरोधी होने की बात सामने आने लगी। फिर क्या था कांग्रेस के आला नेताओं को लगने लगा मानो नेहरू गांधी परिवार के खिलाफ बयान देकर ही सत्ता की मलाई पाई जा सकती है। सलमान खुर्शीद ने राहुल के खिलाफ बोलकर भाजपा का रीता तरकश तीरों से भर दिया है। भाजपा के वरिष्ठ नेता ने मौके का पूरा पूरा फायदा उठाया और राहुल को कम पढ़ा लिखा और नाकाम कारतूस निरूपित कर दिया। माना जा रहा है कि एक बार राहुल पर वार करने का जो सिलसिला आरंभ हुआ है वह फिलहाल थमे इसमें संशय ही है।

शरद पर दांव लगा सकता है राजग!

हामिद अंसारी को संप्रग द्वारा उप राष्ट्रपति के लिए नामांकित किए जाने के बाद अब राजग ने कमर कसना आरंभ कर दिया है। राजग द्वारा देश के हृदय प्रदेश की संस्कारधानी जबलपुर में पले बढ़े शरद यादव पर इस पद के लिए दांव लगाने का मन बना लिया है। राष्ट्रपति के लिए प्रणव मुखर्जी का साथ देने वाला बंटा हुआ राजग अब अपना मौखटा उप राष्ट्रपति के लिए उतारकर नए क्लेवर में सामने आ रहा है। राष्ट्रपति के लिए राजग के शिवसेना और जदयू ने कांग्रेस का दामन थाम लिया। अब उप राष्ट्रपति के लिए मोर्चाबंदी हो रही है। उप राष्ट्रपति के लिए बादल और जसवंत सिंह का नाम सामने आ रहा था, पर अब शरद यादव से कुछ नेताओं की चर्चा के उपरांत उनके नाम पर अंतिम मोहर लग सकती है। उप राष्ट्रपति के लिए शरद यादव के नाम पर राजग के अलावा संप्रग के कुछ दल और वाम दल भी अपनी सहमति दे सकते हैं। माना जा रहा है कि राष्ट्रपति पद के लिए कांग्रेस प्रत्याशी का समर्थन करके शरद ने जो दांव खेला है उससे उप राष्ट्रपति पद के लिए माहौल उनके मुफीद ही प्रतीत हो रहा है।

यह सेमीफायनल है संगमा के लिए!

सियासी गलियारों में इस बारे में शोध हो रहा है कि एनडीए के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार पी.ए.संगमा का गेम प्लान आखिर क्या है? इस बार साफ दिख रहा है कि संगमा हारी हुई बाजी पर ही दांव लगा रहे हैं। संगमा की पुत्री अगाथा केंद्र में लाल बत्ती की मलाई चख रही हैं, वे एनसीपी कोटे से हैं। एनसीपी सुप्रीमो शरद पंवार ने अगाथा को साफ कह दिया है कि अगर अगाथा ने अपने पिता के पक्ष में प्रचार किया तो उनकी लाल बत्ती खतरे में पड़ सकती है। डरी सहमी मासूम बाला अगाथा ने अपने पिता के नामांकन दाखिले के दौरान भी अपने आप को उनसे दूर ही रखा। यह अलहदा बात है कि अगाथा सामाजिक और अन्य प्रोग्राम में पिता के पक्ष में प्रचार प्रसार करती नजर आ रही हैं। संगमा के करीबियों की मानें तो संगमा 2012 को 2017 का सेमीफायनल मानकर चल रहे हैं। वे चाहते हैं कि 2017 में उन्हें सर्वसम्मत प्रत्याशी बना दिया जाए।

राहुल को दमाद बनाने 15 करोड़ का दहेज!

कथित तौर पर देश के मोस्ट इलीजिबल बैचलर (वास्तव में प्रौढ़) राहुल गांधी को अपना दामाद बनाने के लिए ओम शांति नामक महिला चर्चाओं में है। केंद्र और सूबाई सरकारें दहेज लेना और देना दोनों ही अपराध मानती हैं। इसके लिए भारतीय दण्ड विधान में धारा 498 ए का प्रावधान भी है। बावजूद इसके ओम शांति ने अपने धरना स्थल पर चस्पा किया पोस्टर साफ इस बात को दर्शाता है कि वे अपनी बेटी के विवाह के लिए कुछ भी कर गुजरने पर आमदा है। वे इसके लिए कांग्रेस अध्यक्ष श्रीमति सोनिया गांधी को 15 करोड़ रूपए दहेज भी देने को तैयार हैं। कहते हैं कि ओम शांति ने धरने पर बैठने के लिए दिल्ली पुलिस से अनुमति भी नहीं ली है। भले ही चर्चाओं में आने के लिए ओम शांति ने यह प्रयास किया हो पर मानना होगा देश की सरकार और दिल्ली की सरकार को, जो दहेज जैसे दानवीय अपराध को अपनी मांग में शामिल करने के बाद भी उसे पकड़ने के बजाए मूकदर्शक ही बनी बैठी है।

बिना वोट वाले सीएम

उत्तर प्रदेश के साथ बड़ा ही गजब का संयोग जुड़ रहा है। लगातार दूसरी मर्तबा महामहिम राष्ट्रपति को चुनने में यहां का निजाम अपने मत का इस्तेमाल ही नहीं कर पाएगा। वैसे यह संयोग ही कहा जाएगा का भारत गणराज्य के प्रधानमंत्री के रूप में डॉ.मनमोहन सिंह लगातार आठ साल से इस स्थिति में हैं कि वे अपनी ही सरकार को बचाने के लिए मताधिकार का प्रयोग इसलिए नहीं कर सकते क्योंकि वे राज्यसभा के सदस्य हैं। बहरहाल, मायावती के मानिंद ही अखिलेश भी विधानपरिषद के सदस्य हैं। राष्ट्रपति चुनावों में संसद के दोनों सदनों के निर्वाचित सदस्यों के अलावा विधानसभा के निर्वाचित सदस्य ही वोट डाल सकते हैं। इसके पहले मायावती 2007 में 29 जून को विधान परिषद की सदस्य बनीं और 5 जुलाई को राज्यसभा की सदस्यता से त्यागपत्र दे दिया था। 19 अप्रेल 2012 को विधानपरिषद के सदस्य बनते ही अखिलेश यादव ने लोकसभा से त्यागपत्र दे दिया था। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री 12 और 13 वें राष्ट्रपति पद के लिए होने वाले चुनावों में अपने मताधिकार का प्रयोग ही नहीं कर पाएंगे!

कृतघ्‍न मनमोहन!

अब तक एक भी चुनाव प्रत्यक्ष तौर पर नहीं जीत पाने वाले भारत गणराज्य के वज़ीरे आज़म डॉ.मनमोहन सिंह को असम का तहेदिल से शुक्रगुजार होना चाहिए क्योंकि यह वही सूबा है जिसने उन्हें राज्य सभा सदस्य बनाया और देश की बागडोर थामने का मौका दिया। हकीकत इससे उलट ही है। मनमोहन सिंह असम का रूख तभी करते हैं जब यहां बाढ़ या कोई आपदा आती है। प्रधानमंत्री 2 जुलाई को कांग्रेस की राजमाता के साथ 140 मिनिट के असम दौरे पर गए, इसमें से 90 मिनिट तक उन्होंने कांजीरंगा नेशनल पार्क सहित धेमजी, लखीमपुर और जोरहाट का हवाई निरीक्षण किया। मतलब वे कुल मिलाकर 50 मिनिट ही वहां के लोगों से मिले। केंद्र में असम का प्रतिनिधित्व करने वाले देश के प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने असम के प्रति अपनी कृतज्ञता के बजाए कृतध्नता जतलाते हुए एक भी बाढ़ पीढ़ित से मिलने की जहमत नहीं उठाई। अगर हवा हवाई सर्वेक्षण से ही काम चलाना था तो अपना समय और देश का पैसा क्यों लुटाया मनमोहन जी, बेहतर होता कि इंटरनेट पर असम का ई सर्वे कर लिया होता।

लाभ के लिए हटाया भूषण को!

पूर्व नागरिक उड्डयन मंत्री वायलर रवि हैरान हैं कि नागर विमानन महानिदेशालय के प्रमुख केरल काडर के 1979 बैच के आईएएस अफसर भरत भूषण को क्यों हटाया गया? भरत भूषण का कार्यकाल एक सप्ताह पूर्व ही छः माह के लिए बढ़ाया गया था, और उन्हें हटा दिया गया है। इस मामले में उड्डयन मंत्रालय मौन है। मंत्रालय के सूत्रों का कहना है कि इसके पीछे कुछ और कहानी है। दरअसल, 15 साल पुरानी तकनीक के पुराने बड़े विमान और 20 बरस पूर्व की तकनीक वाले हेलीकाप्टर यात्रियों को ढोने के लिए असुरक्ष्ति होते थे। अजीत सिंह ने इस नियम को शिथिल कर दिया है। कहा तो यहां तक भी जा रहा है कि इस तरह के पुरानी तकनीक वाले विमानों और चौपर को खरीदने का खेल खेला जाने वाला था, जिसमें सबसे बड़ी रूकावट भरत भूषण थे। पायलट हड़ताल को खींचना भी इसका ही एक हिस्सा माना जा रहा है। अब भूषण हट गए देखना है कि क्या अजीत सिंह का शिथिल किया गया रूक्का अब काम कर पाएगा।

चौधरी का दबाव! खरीदो हमारी मंहगी दवाएं!

दुनिया के चौधरी अमरीका द्वारा अन्य देशों पर किस तरह का दबाव बनाया जाता है इसका नायाब उदहारण सामने आ रहा है। पीएमओ के सूत्रों का कहना है कि अमरीका का भारत पर यह दबाव बढ़ता ही जा रहा है कि कैंसर की मंहगी दवाएं भारत उससे खरीदे। कैंसर विशेषज्ञों की मानें तो जो दवाएं अमरीका कैंसर के लिए भारत भेजता है उनकी कीमत ढाई लाख रूपए सालाना है, पर जो दवाएं भारत ने इजाद कर ली हैं उनकी कीमत महज एक लाख रूपए सालाना बैठती है। अमरीका प्रशासन का दबाव है कि भारत अपनी सस्ती दवाओं के बजाए अमरीका की मंहगी दवाओं पर देश के कैंसर रोगियों को निर्भर करे। अमरीका की दवा लाबी ने दुनिया के चौधरी अमरीका के प्रेजीडेंट बराक ओबामा पर भी इस बात का दबाव बढ़ा दिया है कि वह इस मामले में हस्ताक्षेप कर इस दवा के लिए भारत में व्यापार का माहौल बनवाए। वर्तमान में भारत सरकार ने तो इस मामले में दो टूक इंकार कर दिया है पर भारत का यह स्टेंड कब तक कायम रहता है यह कहा नहीं जा सकता है।

सरकार से ध्यान हटाया जनसंपर्क ने!

मध्य प्रदेश सरकार की छवि चमकाने, जनहित की योजनाओं को जनता तक पहुंचाने, सरकार की उपलब्धियों के बखान के लिए पाबंद सरकार का एक महकमा सरकार की ही उपेक्षा पर आमदा नजर आ रहा है। पहले न्यूयार्क में मिले प्रदेश सरकार को सम्मान की खबर को बाद में जारी किया गया अब मनरेगा में एमपी की उलब्धि को भी नजर अंदाज ही किया जाता प्रतीत हो रहा है। प्राप्त जानकारी के अनुसार महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना-मनरेगा को लागू करने में मध्यप्रदेश का प्रदर्शन निरंतर बेहतर रहा है। वह अन्य राज्यों की तुलना में प्रदर्शन के आधार पर पांच श्रेणियों में पहले दस राज्यों में शामिल हो गया है। इसके बाद भी शिवराज सिंह चौहान की इतनी बड़ी उपलब्धि का ही मध्य प्रदेश सरकार के जनसंपर्क महकमे द्वारा प्रचार प्रसार ना किया जाना आश्चर्यजनक ही माना जा रहा है। अब सरकार के कुछ आला अफसरान इस बात की तह में जाने की कोशिश में लग गए हैं कि आखिर माजरा क्या है?

लंदन ओलंपिक में मिलेंगे लज़ीज देशी व्यंजन!

अक्सर विदेश में होने वाली खेल प्रतियोगिताओं में हिस्सा लेने जाने वाले दल को वहां भारतीय खाने की शिद्दत से महसूस होती रही है। इस बार लंदन ओलंपिक में भारतीय खिलाड़ियों को देशी व्यंजनों के लिए तरसना नहीं पड़ेगा। वैसे तो लंदन ओलंपिक में शाकाहारी और मांसाहारी दोनों ही तरह के व्यंजनों का लुत्फ उठा सकेंगे। दरअसल, बार बार आने वाली शिकायतों से आज़िज आने के उपरांत लंदन में रह रहे भारतीय मूल के लोगों से संपर्क साधना आरंभ किया गया, जिनसे अनुरोध किया गया कि वे भारतीय पहलवानों और टीम के सदस्यों के लिए भारतीय स्वाद की चपाती, सब्जियां आदि मुहैया करवाएं। भारतीय जायके को ध्यान में रखते हुए देश के महाबली सतपाल ने भी लंदन में भारतीय मूल के परिवारों से संपर्क कर उनसे गुजारिश की है कि भारतीय दल को विशेषतौर पर भारतीय जायके वाला शाकाहारी खाना उपलब्ध करवाएं।

पुच्छल तारा

संचार क्रांति का दौर है। अब तो हर हाथ में मोबाईल दिखाई देता है। शार्ट मैसेज सर्विस यानी एसएमएस के बजाए अब तो एमएमएस का दौर है। ना जाने कितने अश्लील एमएमएस बनकर लोगों के हाथों में घूम रहे हैं। विधानसभा में विधायकों को भी अश्लील एमएमएस देखने में आनंद की अनुभूति होती है। इसी पर हैदराबाद से समीर मिड्ढ़ा ने एक ईमेल भेजा है। समीर लिखते हैं कि कांग्रेस की राजमाता श्रीमति सोनिया गांधी का दरबार लगा हुआ था।

दरबान ने सोनिया गांधी से कहा -‘‘आपका, एमएमएस, आया है।‘‘

अश्लील एमएमएस की बाढ़ में अपने एमएमएस की बात सुनकर वे बुरी तरह चौंकी। इतने में जैसे ही मनमोहन सिंह (एमएमएस) अंदर आए तब सोनिया ने राहत की सांस ली और मनमोहन सिंह कह पड़े -‘‘कंबख्त, नाम तो पूरा लिया कर।‘‘

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz