लेखक परिचय

इक़बाल हिंदुस्तानी

इक़बाल हिंदुस्तानी

लेखक 13 वर्षों से हिंदी पाक्षिक पब्लिक ऑब्ज़र्वर का संपादन और प्रकाशन कर रहे हैं। दैनिक बिजनौर टाइम्स ग्रुप में तीन साल संपादन कर चुके हैं। विभिन्न पत्र पत्रिकाओं में अब तक 1000 से अधिक रचनाओं का प्रकाशन हो चुका है। आकाशवाणी नजीबाबाद पर एक दशक से अधिक अस्थायी कम्पेयर और एनाउंसर रह चुके हैं। रेडियो जर्मनी की हिंदी सेवा में इराक युद्ध पर भारत के युवा पत्रकार के रूप में 15 मिनट के विशेष कार्यक्रम में शामिल हो चुके हैं। प्रदेश के सर्वश्रेष्ठ लेखक के रूप में जानेमाने हिंदी साहित्यकार जैनेन्द्र कुमार जी द्वारा सम्मानित हो चुके हैं। हिंदी ग़ज़लकार के रूप में दुष्यंत त्यागी एवार्ड से सम्मानित किये जा चुके हैं। स्थानीय नगरपालिका और विधानसभा चुनाव में 1991 से मतगणना पूर्व चुनावी सर्वे और संभावित परिणाम सटीक साबित होते रहे हैं। साम्प्रदायिक सद्भाव और एकता के लिये होली मिलन और ईद मिलन का 1992 से संयोजन और सफल संचालन कर रहे हैं। मोबाइल न. 09412117990

Posted On by &filed under राजनीति.


ऐसे लोग सियासत में अपना कारोबार करने आते हैं!

-इक़बाल हिंदुस्तानी

पूर्व मंत्री और मेरठ शहर से विधायक हाजी याकूब कुरैशी को सिखों के खिलाफ घटिया टिप्पणी करने पर आखि़रकार बसपा से बाहर का रास्ता दिखाकर बहनजी ने उनको उनकी औकात बता ही दी। अपने विवादित बयानों और हरकतों के लिये पहले ही बदनाम हाजी याकूब दरअसल सपा में मंत्री रहकर भी ऐसा ही रिकार्ड बना चुके हैं लेकिन सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह का बर्दाश्त का मादा ज़रूरत से कुछ ज़्यादा ही होने से हाजी जी को यह गलतफहमी हो गयी होगी कि वह जब सपा की सरकार में मंत्री बने रहकर सपा और उसके सुप्रीमो को कोसते रहे और उनका कुछ नहीं बिगड़ा तो अब विधायक रहते उनको क्या ख़तरा हो सकता है?

हालांकि ताज़ा मामला हाजी याकूब कुरैशी द्वारा सिख समाज की भावनाओं को ठेस पहुचाने का है लेकिन उनकी हरकतें पहले से ही ऐसी रही हैं कि मेरठ की राजनीति में उनके प्रमुख प्रतिद्वन्द्वी हाजी अख़लाक को घर बैठे ही वह अपने खिलाफ मोर्चा खोलने का कोर्इ न कोर्इ मौका देते रहे हैं। एक तरह से यह कहा जाये तो गलत नहीं होगा कि हाजी याकूब को अपनी खुद की अजीबो गरीब समझ के रहते अपने लिये बाहरी दुश्मनों की ज़रूरत नहीं, तो गलत नहीं होगा। चार दिन पहले ही उनको जामा मसिजद के इमाम अहमद बुखारी ने इस बात के लिये कोसा था कि वे बेहद चालाक और धोखेबाज़ नेता हैं जो चुनाव तो यूडीएफ के टिकट और बैनर से जीते लेकिन बसपा की सरकार बनते ही पलटी मारकर न केवल बीएसपी में शरीक हो गये बलिक उस यूडीएफ का बसपा में विलय भी कर दिया जो उन्होंने कौम की भलार्इ की बड़ी बड़ी डींगे हांककर बनार्इ थी। मज़ेदार बात यह रही कि यूडीएफ बनाने में जिन बड़े मुसिलम नेताओं का मशवरा या सहयोग लिया गया था, हाजी जी ने उनसे सलाह लेने की की ज़रूरत तक नहीं समझी।

जानकार सूत्रों का दावा है कि हाजी जी को सियासत या सपा बसपा से कोर्इ लेनादेना नहीं है, उनको तो अपना कमैला देखना है। मेरठ की राजनीति की असली ध्ारी काफी समय से वहां का कमैला बना हुआ है। जगज़ाहिर है कि सरकार और सत्ताधरी विधायक के रहते सरकारी मशीनरी वो काम भी करने को राज़ी हो जाती है जो कानून के खिलाफ होते हैं। हालत यह है कि सत्ता का नाजायज़ लाभ उठाकर कर्इ बार सरकारी मशीनरी से कोर्ट का आदेश होने के बावजूद कामों को या तो महीनों तक टलवाया जाता है या फिर लीपापोती कर निजी हित साधे जाते हैं। जब से सियासत में धनवान और अपराधी लोगों की आमद बढ़ी है तब से हाजी याकूब जैसे लोगों की भी एक तरह से लाटरी खुल गयी है। यह बात समझ से बाहर है कि जो आदमी खुद एक अल्पसंख्यक समुदाय से आता हो वह दूसरे अल्पसंख्यक सिख समुदाय के बारे में ऐसी बेतुकी और बचकाना बात कहे कि उससे कोर्इ बच्चा भी बुरी तरह नाराज़ हो जाये। चोरी और सीनाज़ोरी यह कि खुद गल्ती करने के बावजूद सारी कमी मीडिया की बताकर अपना दामन बचाने की नाकामयाब कोशिश करना जबकि मीडिया के पास उनके विवादित बयान की वह रिकार्डिंग मौजूद है जो उन्होंने आधुनिक पशुवधशाला के उदघाटन के समय दिया था। वह पहले भी सपा के मंत्री रहते रेल में बिना टिकट यात्राा करते रंगेहाथ पकड़े गये थे लेकिन कोर्इ क्या करे ऐेसे मतलबी और खुदगजऱ् नेताओं का शर्म जिनको मगर नहीं आती।

मेरठ शहर से विधायक रहे हाजी याकूब कुरैशी का विवादित टिप्पणी को लेकर सिखों में विरोध जगह जगह बढ़ता जा रहा है। यह हालत तब है जबकि उनको अपनी ज़बान फिसलने की सज़ा न केवल बसपा से बाहर होने की शक्ल में मिल चुकी है बलिक उन्होंने सिंह सभा से बाकायदा लिखित माफी भी मांग ली है। अब पता चला है कि सिपाही चहन सिंह को थप्पड़ मारने का मामला भी उनके गले की फांस बनने जा रहा है। बताया जाता है इस मामले में जो शपथपत्र दस दिन पहले एडीजी को दिये गये थे ,उन्हें जांच में शामिल कर लिया गया है। बहनजी का रूख़ देखकर पुलिस अब इस मामले में चार्जशीट दायर करने की तैयारी कर रही है। आपको याद दिलादें 17 फरवरी 2011 को रविदास जयंती पर रूट डायवर्जन को लेकर नगर विधायक हाजी याकूब कुरैशी ने हापुड़ स्टैंड पर रोकने पर सिपाही चहन सिंह को पीट दिया था। इस थप्पड़ की गूंज बहुत दूर तक सुनार्इ दी थी। बाद में कोर्ट के आदेश पर पुलिस ने मजबूर होकर लिसाड़ी गेट थाने में सिपाही की रपट दर्ज की थी। इस मामले की शिकायत मानवाधिकार आयोग में भी की गयी थी। सत्ता से जुड़े होने की वजह से अब तक तो याकूब मियां का इस मामले में कुछ नहीं बिगड़ा था लेकिन अब सिपाही चहन सिंह के साथ डयूटी पर मौजूद अन्य पांच सिपाहियों ने भी शपथपत्र देकर हाजी जी के खिलाफ थप्पड़ मारने की गवाही दे दी है जिससे इस केस में जल्दी ही चार्जशीट दायर होगी। इसके साथ ही भूमिया पुल दंगा, हापुड़ रोड विवाद और दिल्ली रोड हंगामें की दबी फाइलें भी लखनउू से इशारा मिलते ही प्रशासन ने तलाश कर कार्यवाही तेज कर दी है।

दरअसल हाजी याकूब जैसे नेताओं की समस्या यही है कि उनके पास अचानक बेशुमार दौलत तो आ गयी जिसके बल पर वे मोटी रक़म ख़र्च करके चुनाव भी जीत जाते हैं लेकिन उनकी समझ आज भी वही की वही है। एक अच्छे और सच्चे नेता में कितनी नरमी, दूरअंदेशी और काबलियत होनी चाहिये इसके लिये न तो पहले से वे कुछ जानते हैं और न ही उनको ऐसा करने के लिये कहीं से कोर्इ प्रशिक्षण मिला है। हालत यह है कि अंगूठाछाप और संकीर्ण सोच के नेता जब मंत्री तक बन जाते हैं तो करेला और नीम पर चढ़ा वाली बात लागू हो जाती है। इस लेखक को याद है एक बार हाजी याकूब कुरैशी जब सपा सरकार में मंत्राी थे तो नजीबाबाद आये थे। उनकी प्रैस वार्ता में मैंन एक पत्रकार के रूप में जब उनसे यह पूछा कि वे एक मंत्री हैं। उन्होंने संविधान को मानने की शपथ ली है। फिर उन्होंने उस विदेशी कार्टूनिस्ट को मारने पर 51 करोड़ रूपये की रक़म देने का ऐलान कैसे कर दिया जिसने हज़रत मुहम्मद साहब का बेहूदा कार्टून बनाकर अपमान किया है। मैंने अपना सवाल समझाते हुए उनसे यह भी कहा कि बेशक उक्त काटर्ूनिस्ट के ऐसा करने से मुसलमानों की भावनाओं को बेहद ठेस पहुंची है जिससे उसको कानून के हिसाब से सज़ा ज़रूर मिलनी चाहिये। इस मामले में हम भी आपके साथ हैं, लेकिन किसी अपराधी को भी मारने की इस तरह से सुपारी देना मंत्री या विधायक रहते हुए आपको संविधान इजाज़त नहीं देता। इसपर हाजी जी भड़ककर बोले कि ऐलान मैंन एक मुसिलम रहबर के नाते किया है मंत्री के रूप में नहीं। मैंने यह सवाल कर दिया कि आप 24 घंटे में क्या अलग अलग टाइम मंत्री और मुसलमान रहते हैं? इसपर तो हाजी जी का गुस्सा सातवें आसमान पर पहुंच गया और वे मुझे भाजपा का एजेंट बताने लगे, और आगे प्रैसवार्ता जारी रखने से ही मना करके चले गये।

ये दौलत आदमी की मुफलिसी को दूर करती है,

मगर कमज़फऱ् इंसां को और भी मग़रूर करती है ।।

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz