लेखक परिचय

प्रवक्‍ता ब्यूरो

प्रवक्‍ता ब्यूरो

Posted On by &filed under हिंद स्‍वराज.


नवजीवन ट्रस्‍ट द्वारा प्रकाशित महात्‍मा गांधी की महत्‍वपूर्ण पुस्‍तक ‘हिंद स्‍वराज’ का चतुर्थ पाठ

hind swarajjपाठक: आपने सभ्यता के बारे में बहुत कुछ कहा और मुझे विचार में डाल दिया। अब तो मैं इस संकट में आ पड़ा हूं कि यूरोप की प्रजा से मैं क्या लूं और क्या न लूं। लेकिन एक सवाल मेरे मन में तुरन्त उठता है, अगर आज की सभ्यता बिगाड़ करने वाली है, एक रोग है तो ऐसी सभ्यता में फंसे हुए अंग्रेज हिन्दुस्तान को कैसे ले सके? इसमें वे कैसे रह सकते हैं?

संपादक: आपके इस सवाल का जवाब अब कुछ आसानी से दिया जा सकेगा और अब थोड़ी देर में हम स्वराज्य के बारे में भी विचार कर सकेंगे। आपके इस सवाल का जवाब अभी देना बाकी है, यह मैं भूला नहीं हूं। लेकिन आपके आखिरी सवाल पर हम आयें। हिन्दुस्तान अंग्रेजों ने लिया सो बात नहीं है बल्कि हमने उन्हें दिया है। हिन्दुस्तान में वे अपने बल से नहीं टिके हैं बल्कि हमने उन्हें टिका रखा है। वह कैसे सो देखें। आपको मैं याद दिलाता हूं कि हमारे देश में वे दरअसल व्यापार के लिए आये थे। आप अपनी कंपनी बहादुर को याद कीजिये उसे बहादुर किसने बनाया। वे बेचारे ऐसे राज करने का इरादा भी नहीं रखते थे। कंपनी के लोगों की मदद किसने की? उनकी चांदी को देखकर कौन मोह में पड़ जाता था? उनका माल कौन बेचता था?

इतिहास सबूत देता है कि यह सब हम ही करते थे। जल्दी पैसा पाने के मतलब से हम उनका स्वागत करते थे। हम उनकी मदद करते थे। मुझे भांग पीने की आदत हो और भांग बेचने वाला मुझे भांग बेचे तो कसूर बेचने वाले का निकालना चाहिये या अपना खुद का? बेचने वाले का कसूर निकालने से मेरा व्यसन थोड़े ही मिटनेवाला है? एक बेचने वाले को भगा देंगे तो क्या दूसरे मुझे भांग नहीं बेचेंगे। हिन्दुस्तान के सच्चे सेवक को अच्छी तरह खोज करके इसकी जड़ तक पहुंचना होगा। ज्यादा खाने से अगर मुझे अजीर्ण हुआ हो तो मैं पानी का दोष निकाल कर अजीर्ण दूर नहीं कर सकूंगा। सच्चा डाक्टर तो वह है जो रोग की जड़ खोजे। आप अगर हिन्दुस्तान के रोग के डाक्टर होना चाहते हैं तो आपको रोग की जड़ खोजनी ही पड़ेगी।

पाठक: आप सच कहते हैं। अब मुझे समझाने के लिए आपको दलील करने की जरूरत नहीं रहेगी। मैं आपके विचार जानने के लिए अधीर बन गया हूं। अब हम बहुत ही दिलचस्प विषय पर आ गये हैं, इसलिए मुझे आप अपने ही विचार बतायें। जब उनके बारे में शंका पैदा होगी तब मैं आपको रोकूंगा ।

संपादक: बहुत अच्छा, पर मुझे डर है कि आगे चलने पर हमारे बीच फिर से मतभेद जरूर होगा। फिर भी जब आप मुझे रोकेंगे तभी मैं दलील में उतरूंगा। हमने देखा कि अंग्रेज व्यापारियों को हमने बढ़ावा दिया तभी वे हिन्दुस्तान में अपने पैर फैला सके। वैसे ही जब हमारे राजा लोग आपस में झगड़े तब उन्होंने कंपनी बहादुर से मदद मांगी। कंपनी बहादुर व्यापार और लड़ाई के काम में कुशल थी उसमें उसे नीति अनीति की अड़चन नहीं थी। व्यापार बढ़ाना और पैसा कमाना यही उसका धंधा था। उसमें जब हमने मदद दी तब उसने हमारी मदद ली और अपनी कोठिया बढ़ाई। कोठियों का बचाव करने के लिए उसने लश्कर रखा। उस लश्कर का हमने उपयोग किया इसलिए अब उसे दोष देना बेकार है। उस वक्त हिन्दू मुसलमानों के बीच बैर था। कंपनी को उससे मौका मिला। इस तरह हमने कंपनी के लिए ऐसे संजोग पैदा किये जिससे हिन्दुस्तान पर उसका अधिकार हो जाय। इसलिए हिन्दुस्तान गया, ऐसा कहने के बजाय ज्यादा सच यह कहना होगा कि हमने हिन्दुस्तान अंग्रेजों को दिया।

पाठक: अब अंग्रेज हिन्दुस्तान को कैसे रख सकते हैं, सो कहिये?

संपादक: जैसे हमने हिन्दुस्तान उन्हें दिया वैसे ही हम हिन्दुस्तान को उनके पास रहने देते हैं। उन्होंने तलवार से हिन्दुस्तान लिया। ऐसा उनमें से कुछ कहते हैं और ऐसा भी कहते हैं कि तलवार से वे उसे रख रहे हैं। ये दोनों बाते गलत हैं। हिन्दुस्तान को रखने के लिए तलवार किसी काम में नहीं आ सकती। हम खुद ही उन्हें यहां रहने देते हैं।

नेपोलियन ने अंग्रेजों को व्यापारी प्रजा कहा है। वह बिलकुल ठीक बात है। वे जिस देश को (अपने काबू) में रखते हैं उसे व्यापार के लिए रखते हैं। यह जानने लायक है। उनकी फौजें और जंगी बेडे सिर्फ व्यापार की रक्षा के लिए है। जब ट्रान्सवाल में व्यापार का लालच नहीं था तब मि. ग्लेडस्टन को तुरन्त सूझ गया कि ट्रान्सवाल पर अंग्रेजों की हुकूमत है। मरहूम प्रेसिडेन्ट कूगर से किसी ने सवाल किया चांद में सोना है या नहीं? उसने जवाब दिया चांद में सोना होने की संभावना नहीं है क्योंकि सोना होता तो अंग्रेज अपने राज के साथ उसे जोड़ देते। पैसा उनका खुदा है यह ध्यान में रखने से सब बातें साफ हो जायेंगी। तब अंग्रेजों को हम हिन्दुस्तान में सिर्फ अपनी गरज से रखते हैं। हमें उनका व्यापार पसन्द आता है। वे चालबाजी करके हमें रिझाते हैं और रिझाकर हमसे काम लेते हैं। इसमें उनका दोष निकालना उनकी सत्ता को निभाने जैसा है। इसके अलावा हम आपस में झगड़कर उन्हें ज्यादा बढ़ावा देते हैं।

अगर आप ऊपर की बात को ठीक समझते हैं तो हमने यह साबित कर दिया कि अंग्रेज व्यापार के लिए यहां आये, व्यापार के लिए यहा रहते हैं और उनके रहने में हम ही मददगार हैं। अनके हथियार तो बिलकुल बेकार हैं।

इस मौके पर मैं आपको याद दिलाता हूं कि जापान में अंग्रेजी झंडा लहराता है। ऐसा आप मानिये। जापान के साथ अंग्रेजों ने जो करार किया है वह अपने व्यापार के लिए किया है। और आप देखेंगे कि जापान में अंग्रेज लोग अपना व्यापार खूब जमायेंगे। अंग्रेज अपने माल के लिए सारी दूनिया को अपना बाजार बनाना चाहते हैं। यह सच है कि ऐसा वे नहीं कर सकेंगे, इसमें उनका कोई कसूर नहीं माना जा सकता। अपनी कोशिश में वे कोई कसर नहीं रखेंगे।

अवश्‍य पढें :

‘हिंद स्वराज की प्रासंगिकता’ को लेकर ‘प्रवक्‍ता डॉट कॉम’ पर व्‍यापक बहस की शुरुआत

‘हिंद स्‍वराज’ का पहला पाठ

हिंद स्वराज : बंग-भंग

हिंद स्वराज : अशांति और असंतोष

Leave a Reply

1 Comment on "हिंद स्वराज : हिन्दुस्तान कैसे गया?"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
sunil
Guest

hey tumne to bhut hi accha likha ha you are good

wpDiscuz