लेखक परिचय

श्‍यामल सुमन

श्‍यामल सुमन

१० जनवरी १९६० को सहरसा बिहार में जन्‍म। विद्युत अभियंत्रण मे डिप्लोमा। गीत ग़ज़ल, समसामयिक लेख व हास्य व्यंग्य लेखन। संप्रति : टाटा स्टील में प्रशासनिक अधिकारी।

Posted On by &filed under गजल.


jivanव्यर्थ यहाँ क्यों बिगुल बजाते, यह मुर्दों की बस्ती है

कौवे आते, राग सुनाते. यह मुर्दों की बस्ती है

 

यूँ भी शेर बचे हैं कितने, बचे हुए बीमार अभी

राजा गीदड़ देश चलाते, यह मुर्दों की बस्ती है

 

गिद्धों की अब निकल पड़ी है, वे दरबार सजाते हैं

बिना रोक वे धूम मचाते, यह मुर्दों की बस्ती है

 

साँप, नेवले की गलबाँही, देख सभी हैं अचरज में

अब भैंसे भी बीन बजाते, यह मुर्दों की बस्ती है

 

दाने लूट लिए चूहे सब समाचार पढ़कर रोते

बेजुबान पर दोष लगाते, यह मुर्दों की बस्ती है

 

सभी चीटियाँ बिखर गयीं हैं, अलग अलग अब टोली में

बाकी सब जिसको भरमाते, यह मुर्दों की बस्ती है

 

हैं सफेद अब सारे हाथी, बगुले काले सभी हुए

बचे हुए को सुमन जगाते, यह मुर्दों की बस्ती है

 

Leave a Reply

2 Comments on "यह मुर्दों की बस्ती है"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
प्रभुदयाल श्रीवास्तव
Guest
प्रभुदयाल

बहुत बढिया

mahendra gupta
Guest

विकट समस्या है देश की.लगता है लोकतंत्र पंगु हो गया है. कुछ लोगों ने उसका अपहरण ही कर लिया है.सब को सजग करती सुन्दर कविता.

wpDiscuz