लेखक परिचय

श्‍यामल सुमन

श्‍यामल सुमन

१० जनवरी १९६० को सहरसा बिहार में जन्‍म। विद्युत अभियंत्रण मे डिप्लोमा। गीत ग़ज़ल, समसामयिक लेख व हास्य व्यंग्य लेखन। संप्रति : टाटा स्टील में प्रशासनिक अधिकारी।

Posted On by &filed under दोहे, साहित्‍य.


NETAचली सियासत की हवा, नेताओं में जोश।

झूठे वादे में फँसे, लोग बहुत मदहोश।।

 

दल सारे दलदल हुए, नेता करे बबाल।

किस दल में अब कौन है, पूछे लोग सवाल।।

 

मुझ पे गर इल्जाम तो, पत्नी को दे चांस।

हार गए तो कुछ नहीं, जीते तो रोमांस।।

 

जनसेवक राजा हुए, रोया सकल समाज।

हुई कैद अब चाँदनी, कोयल की आवाज।।

 

नेता और कुदाल की, नीति-रीति है एक।

समता खुरपी सी नहीं, वैसा कहाँ विवेक।।

 

कलतक जो थी झोपड़ी, देखो महल विशाल।

जाती घर तक रेल अब, नेता करे कमाल।।

 

धवल वस्त्र हैं देह पर, है मुख पे मुस्कान।

नेता कहीं न बेच दे, सारा हिन्दुस्तान।।

 

सच मानें या जाँच लें, नेता के गुण चार।

बड़बोला, झूठा, निडर, पतितों के सरदार।।

 

पाँच बरस के बाद ही, नेता आये गाँव।

नहीं मिलेंगे वोट अब, लौटो उल्टे पाँव।।

 

जगी चेतना लोग में, है इनकी पहचान।

गले सुमन का हार था, हार गए श्रीमान।

 

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz