लेखक परिचय

विनोद बंसल

विनोद बंसल

लेखक इंद्रप्रस्‍थ विश्‍व हिंदू परिषद् के प्रांत मीडिया प्रमुख हैं। कई पत्र-पत्रिकाओं एवं अंतर्जाल पर समसामयिक विषयों पर नियमित लेखन।

Posted On by &filed under धर्म-अध्यात्म.


– विनोद बंसल

बालक सिद्धार्थ अपने चचेरे भाई के साथ जंगल की ओर निकले। भाई देवदत्त के हाथ में धनुष बाण था। ऊपर उडते एक पक्षी को देख देवदत्त ने बाण साधा और उस पक्षी को घायल कर दिया। पक्षी जैसे ही नीचे गिरा, दोनों भाई उसकी ओर दौडे। सिद्धार्थ पहले पहुंचे और उसे अपनी हथेली में रखकर बाण को बडे प्‍यार से निकाला। किसी जडी-बूटी का रस उसके घाव पर लगाकर पानी आदि पिला उसे मृत्‍यु से बचा लिया। देवदत्त पक्षी पर अपना अधिकार जमाना चाहता था। उसका कहना था कि मैंने इसे नीचे गिराया है अत: इस पर मेरा अधिकार है। सिद्धार्थ का कथन था कि यह केवल घायल हुआ है, यदि मर जाता तो तुम्‍हारा होता। पर, क्‍योंकि मैं इसकी सेवा सुश्रुषा कर रहा हूं अत: यह मेरा हुआ। दोनों में जब विवाद बढा तो मामला न्‍यायालय तक जा पहुंचा। न्‍यायालय ने दोनों के तर्कों को ध्‍यान से सुनकर निर्णय दिया कि जीवन उसका होता है जो उसको बचाने का प्रयत्‍न करता है। अत: पक्षी सिद्धार्थ का हुआ। बस, यहीं से हुआ बालक सिद्धार्थ का महात्‍मा बुद्ध बनने का कार्य प्रारम्‍भ।

राजसी ठाट-बाट, नौकर-चाकर, घोड़ा-बग्गी, गर्मी, जाडे व वर्षात के लिए अलग-अलग प्रकार के महल, बडे-बडे उद्यान व सरोवरों में सुन्दर मछलियां पाली गयीं, कमल खिलाये गये। सभी अनुचर व अनुचरी भी युवा व सुन्दर रखे गये। किसी भी बूढ़े, बीमार, सन्यासी व मृतक से उन्हें कोषों दूर रखा गया। यशोधरा नामक एक सुन्दर व आकर्षक युवती से उनका विवाह हुआ। चारों ओर आनन्द ही आनन्द। किन्तु, सारी सुविधाओं से युक्त सिद्धार्थ के मन में तो कुछ और ही पल रहा था।

एक दिन वे अपने रथ वाहक के साथ बाहर निकल पड़े। बाहर आने पर उन्होंने पहली बार एक बूढ़े व्यक्ति को देखा जिसके बाल सफेद थे, त्वचा मुरझायी और शुष्क थी, दांत टूटे हुए थे, कमर मुड़ी हुई थी और पसलियां साफ दिखाई दे रहीं थी, आंखे अन्दर धंसी हुई थीं और लाठी के सहारे चल रहा था। शरीर की जीर्ण-शीर्ण अवस्था देख सिद्धार्थ कुछ विचलित हुए। उनके मस्तिष्क में हलचल मची और महल की तरफ वापस चल दिये। दूसरे दिन एक बीमार आदमी तथा तीसरे दिन शव यात्रा तथा चौथे दिन एक सन्यासी को देख सिद्धार्थ के मन का दबा हुआ गूढ़ ज्ञान जाग उठा। वे सोचने लगे ”..तो बुढ़ापे का दुख, बीमारी का कष्ट, फिर मृत्यु का दुख, यही मनुष्य का प्राप्य हैं और यही उसकी नित्य गति है। जीवन दु:ख ही दु:ख है। क्या इस दुख से बचने का कोई उपाय नहीं है? क्या मुझे और उन सबको, जिन्हें मैं प्यार करता हूं, बुढ़ापे, बीमारी और मृत्यु का कष्ट भोगना ही पड़ेगा?”

इस सबका उत्तार सोचते-सोचते उन्हें लगा कि ‘एक सन्यासी का जीवन ही शांत व निर्द्वंन्द है। लगता है इस संसार के दु:ख व सुख उसे छू नहीं सकते !’ उसी क्षण उन्होंने नि”चय किया कि मैं भी सन्यास ग्रहण करूंगा तथा संसार त्याग कर दुख से मुक्ति पाने का मार्ग ढूढ़ूंगा। यह तय करने के तुरन्त बाद ही महल से उनके पिता राजाशूद्धोधन ने संदेश भिजवाया कि उन्हें (सिद्धार्थ) को पुत्र रत्न की प्राप्ति हुई है। पुत्र प्राप्ति का मोह भी उन्हें उनके मार्ग से डिगा न सका।

वे सब कुछ छोड़कर कपिलवस्तु से विदा हो लिए। उन्होंने सत्य, अहिंसा, त्याग, बलिदान, करूणा और देश सेवा का जो पाठ पढ़ाया वह जग जाहिर है। पूरे विश्‍व की रग-रग में महात्मा बुद्ध की शिक्षाएं समायी हुई हैं। ऐसे महान संत महात्मा बुद्ध को उनकी जयन्ती पर शत-शत नमन्।

Leave a Reply

1 Comment on "त्याग, करूणा व ज्ञान के भण्डार – महात्मा बुद्ध"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
sunil patel
Guest

सत्य कथन. किन्तु आज तो भगवान् के नाम पर राजनीती हो रही है. समाज में हर जगह त्याग के जगह लूट, करुना के जगह अत्याचार, ज्ञान के जगह अज्ञान, घमंड, दंभ, दिखावा का बोलबाला है. आज गौतम बुद्ध के दिखाय मार्ग पर चलने की जरुरत है.

wpDiscuz