लेखक परिचय

डॉ. मधुसूदन

डॉ. मधुसूदन

मधुसूदनजी तकनीकी (Engineering) में एम.एस. तथा पी.एच.डी. की उपाधियाँ प्राप्त् की है, भारतीय अमेरिकी शोधकर्ता के रूप में मशहूर है, हिन्दी के प्रखर पुरस्कर्ता: संस्कृत, हिन्दी, मराठी, गुजराती के अभ्यासी, अनेक संस्थाओं से जुडे हुए। अंतर्राष्ट्रीय हिंदी समिति (अमरिका) आजीवन सदस्य हैं; वर्तमान में अमेरिका की प्रतिष्ठित संस्‍था UNIVERSITY OF MASSACHUSETTS (युनिवर्सीटी ऑफ मॅसाच्युसेटस, निर्माण अभियांत्रिकी), में प्रोफेसर हैं।

Posted On by &filed under महत्वपूर्ण लेख.


एक: बंध या Bond, बांध या Bund, बंधन या bonding

बंध का अंग्रेज़ी Bond , या बांध का अंग्रेज़ी Bund, और वैसे ही, बंधन का अंग्रेज़ी bonding ऐसे शब्दों को देखकर आप को सहज प्रश्न हो सकता है, कि कहीं इन शब्दों का मूल समान तो नहीं?

तो इसी उत्सुकता और कुतूहल से, इस लेखक ने कुछ ढूंढने का प्रयास किया।जो कुछ सहज में मिला उसे आप पाठकों के समक्ष रखने में हर्ष अनुभव करता हूँ।

दो : तटस्थ मित्र

कुछ मित्र अब भी है, तटस्थ है। यह हमारे दीर्घ कालीन दासता का परिणाम है, ऐसा मैं मानता हूँ।

कुछ को प्रश्न है, कि ऐसा किस ने लिखा है? किन्तु लगता है, कि धीरे धीरे उनका मत भी बदल रहा होगा। मानस शास्त्र कहता है, कि कभी कभी स्वीकार करने में स्वाभिमान, अहंकार या पूर्व प्राप्त ग्यान भी पूर्वाग्रह का रूप ले लेता है। और बाधा बन जाता है।

पर ऐसे विरोधी विचारों की, दूरभाष (फोन) संख्या धीरे धीरे घट ही रही हैं। वैसे उनका विश्वास सम्पादन करने के उद्देश्य से, इस लेख में कुछ गहराई से अंग्रेज़ी शब्दों को ढूंढने का प्रयास किया है। वैसे, एक और व्यक्ति ने मुझे सहायता दी है, जो चाहती है, कि उनका नाम का उल्लेख ना किया जाए। मैं उन की इच्छा का सम्मान करता हूँ।

तीन: निरूक्त प्रतिपादित, यास्क के सिद्धान्त

मुझे तो अचरज है, कि जिन तीन निरूक्त प्रतिपादित, यास्क के सिद्धान्तों का उपयोग इन लेखों में किया जा रहा है; वैसा तो कोई भी कर सकता था। एक प्रश्न के उत्तर में कहता हूँ, कि, इन लेखों में लिखी गयी सामग्री, मैं ने कहीं और पढी नहीं है। पारिवारिक रिश्तों के और कुछ स्फुट शब्दों को पढा हुआ था। पर, वैसे भाषा विज्ञान मेरा क्षेत्र नहीं है। अन्यथा आप मुझे दर्शा सकते हैं, मैं आपका ऋणी रहूंगा।

चार: गौरव बोध

दूसरा आश्चर्य, मुझे ऐसी प्रेरणा एक सांस्कृतिक गौरव बोध से भारित कर देती है, कि हमारे यास्क मुनि का निरूक्त सारे संसार का पहला ग्रंथ है, जो व्युत्पत्ति शास्त्र पर आज भी उपलब्ध है। और पढता हूँ, कि यास्क मुनि भी उनके पहले लिख गए अन्य विद्वानों के नाम संदर्भ सहित देते हैं। उनके पहले भी इस विषय पर लिखा गया होगा, ऐसा मानने के लिए प्रमाण इन संदर्भों से प्राप्त होते हैं।

पांच :यास्क मुनि के सिद्धान्तों का सार

यास्क मुनि कहते हैं, कि, लगभग समान अर्थ छटाएं; लगभग, समान स्तर के अर्थ; और स्थूल रूप से उच्चारण में समानता; के आधार पर निर्वचन किया जाना चाहिए। उन के तीन सिद्धान्तों को अन्त के परिशिष्ट में हिन्दी में गहराई से जानने की इच्छा रखने वाले पाठकों को ध्यान में रखकर उद्‌धृत किया है। इन सिद्धान्तों के आधार पर शब्द वृक्ष रचे जा रहे हैं। इस आलेख में अंग्रेज़ी पर कुछ विशेष ध्यान दिया है, हिन्दी में कुछ कम।

छः आज का शब्द वृक्ष

आजका शब्द वृक्ष धातु: बंध्‌ –बध्नाति पर खडा करते हैं।

अंग्रेज़ी में यह बंध जब अन्य भाषाओं से यात्रा करते करते पहूंचा होगा, तो अनुमान के आधार पर कहा जा सकता है, यह बंध, कहीं पर बंद बन गया होगा, कहीं बण्ड बना होगा; और अंग्रेज़ी में पहुंचते पहुंचते यह Band (बॅण्ड), Bond (बॉण्ड) और Bind (बाइण्ड) बन गया होगा। अंग्रेज़ी या रोमन लिपि की सीमित उच्चारण क्षमता भी इसका कारण हो सकती है।

सातः धातु: बंध्‌ –बध्नाति के अर्थ स्तर:

धातु के अर्थ स्तर है,(१) बांधना, कसना, जकडना (२)दबोचना, पकडना, जेल में डालना, जाल में फसाना, बंदी बनाना, (३) शृंखला में बांधना, बेडी में जकडना, (४) रोकना, ठहराना, दमन करना, (५)पहनना, धारण करना, (६) आंख आदि आकृष्ट करना, गिरफ्तार करना (७) स्थिर करना, जमाना, निदेशित करना, डालना, (८) बाल आदि बांधना, मिलाकर जकडना (९) निर्माण करना, संरचन करना, रूप देना, व्यवस्थित करना (१०) एकत्र करना,रचना करना (११) बनाना, पैदा करना, जन्म देना (१२) रखना, अधिकार में करना, ग्रहण करना, संजोकर रखना।

आठ : वृक्ष की शाखाएं।

आद्यांश (उपसर्ग) आ, अनु, उद्‌, नि, निस्‌, परि, प्रति, सम्‌ –इत्यादि के आधारपर आप निम्न शाखाएं देख सकते हैं।

सं+ बंध से –> संबंध से –>बना संबंधी। जिसका तद्भव प्राकृत रूप है –>समधी और उसीसे बना सम्‌धन

नि+बंध से —>निबंध से प्रचलित शब्द–> निबंधक

उसी प्रकार से —> परि+ बंध—->परिबंध, वैसे ही प्रतिबंध, आबंध, अनुबंध, उद्‌बंध इत्यादि।

बंध को न प्रत्यय जोड के बनता है, बंधन= अर्थ है, जिसके कारण बंधा जाता है, वह कारण।

उसी से आगे बनते हैं, प्रेमबंधन, धर्मबंधन, कर्मबंधन, शास्त्रबंधन, स्नेहबंधन,

फिर बंध को क प्रत्यय जोडके बनता है–> बंधक। अर्थ हुआ बांधनेवाला। आप आगे धर्मबंधक, कर्म बंधक….इत्यादि

फिर भाई के अर्थ में जो जुडा होता है, वह —>बंधु, से—> बंधुत्व, से –>बना विश्व बंधुत्व,–> बंधुहीन इत्यादि।

फिर बंध का ही दूसरा रूप है (शायद प्राकृत) बंद, इस बंद से—> ही बनता है, बंदा, और बंदगी।

और वैसे ही –> बांधना, –>बांध,–> बंधवाना, —रक्षाबंधन = राखी बंधवाना हुआ।

उपसर्ग ===>प्र +बंध—> प्रबंध के अंतमें न लगाकर बनता है,—-> प्रबंधन जो Management के लिए उचित अर्थ रखता है। फिर प्रबंध को क लगाकर बनता है, —->प्रबंधक (प्रबंध करनेवाला) भी उसी से निकलता है।

उपसर्ग ===> नि+बंध—-> निबंध के अंतमें न लगाकर बनता है –> निबंधन ( अर्थ हुआ निबंध लिखने की क्रिया), क लगाकर बनेगा निबंधक (निबंध लिखनेवाला या उसका प्रबंध करने वाला),

उपसर्ग ===>प्रति+बंध —> प्रतिबंध (जिसमें आपको या आपके कार्यको जैसे बांध दिया जाता हो, ऐसा अर्थ होता है।) —>इसीका प्राकृत रूप है, –>पाबंदी, अंग्रेज़ी Ban भी Band (या बंध धातु का ही) भाव दर्शाता है। उपसर्ग===>अनु+बंध —-> अनुबंध , संबंध,

प्रत्यय===>बद्ध —>सूत्रबद्ध, (किसी नियम के अंतर्गत एक सूत्र में बंधे हुए), इस बद्ध को आप क्रमबद्ध (अनु क्रम में बंधे हुए), आबद्ध, प्रतिबद्ध, संबद्ध, निबद्ध, अनुबद्ध,

प्रत्यय से ===>संबधित, निबंधित, प्रबंधित, प्रतिबंधित,

वैसे ही: ===>बंधनीय, बंध्य, बाध्य ऐसे आपको असंख्य शब्द मिल जाएंगे।

नौ : शब्द वृक्षकी अंग्रेज़ी शाखा:

हमारे शब्द वृक्षकी एक जटा जो युरप में पहुंची उसका वहीं बीज बन कर विस्तार हुआ। इस वृक्ष के निम्न ६३ शब्द शोध कर पाया। और भी होंगे। निम्न शब्द देखिए।

अंग्रेज़ी में बंध का Bond. Bind, Band इत्यादि रोमन उच्चारण की सीमा के कारण हो जाता है।

(१) bond=ऋण पत्र (जिस से व्यक्ति बंध जाता है), किसी समूह को बांध कर रखनेवाली शक्ति। बन्धन,

(२) bondage= कारावास, बंध, विवशता।

(३) bonded labour = बंधुआ श्रमिक

(४) bonding= बंधन, जुडाई।

(५) bondmaid= गुलाम बंधी हुयी स्त्री, (यह पश्चिम कृष्ण वर्णी अफ़्रिकन के लिए प्रायोजित)

(६) bondman = गुलाम बंधा हुआ पुरूष (यह पश्चिम कृष्ण वर्णी अफ़्रिकन के लिए प्रायोजित)

(७) vagabond= बिना-बंध(निर्बंध) घुमक्कड

(८) bund=नदी का बंध (जो पानी को बांधकर रोकता है)

(९) bind= बांधना

(१०) binder= बांधने वाला जैसे,

(११) bookbinder= पुस्तकों को बांधकर आवरण चढाने वाला।

(१२) armband =हाथ पर बंधी पट्टी।

(१३) band= आपस में (अनुशासन से)बंधा हुआ समूह। वाध्य वृन्द

(१४) bandleader= ऐसे वाद्य वृन्द (समूह) का नेता

(१५) bandmaster= वाद्य वृन्दका संगीत निर्देशक

(१६) bandage= घाव पर बंधी पट्टी।

(१७) bandaid= औषधि का लेप लगी हुयी पतली पट्टी।

(१८) bandanna= रंगी हुयी कपडे की पट्टी।

(१९) abandon=सुरक्षा से (बंधन)मुक्त करना।

(२०) abandoner= ऐसे मुक्त करनेवाला।

(२१) hairband= बाल बांधने की पट्टी।

(२२) headband= सर पर बंधी पट्टी।

(२३) husband = पति (विवाह के समय, पति पत्नी के हस्त मिलन से, हाथ बंधने के कारण)

—हस्तबंध, अर्थात जिसके हाथ बंधे है, वह।

(२४) waistband= कटि मेखला (कमर बंद)

(२५) watchband= घडी बांधने की पट्टी

(26) bellyband= पेट पर बंधी पट्टी।

(27) contrabandist = निर्बंध (बिना कानून) वस्तु का व्यापारी

(२८) contraband=निर्बंध (बिना कानून ) की आयात वस्तु।

(२९) disband = संगठन (समूह बंधन हटाना) विसर्जन करना।

(३०)bondstone= दो दिवारों को बांधने वाला लम्बा पत्थर

(३१) spellbind= सम्मोहन में बंधा हुआ।

(३२) broadband—–(३३) browband—-(३५) bondages—-(३६) bonder—-(३७) bondholder—–(३८) bondings—-(३९) bondsman——(४०) spunbonded—-(४१) Bundle—–(४२)—crossband —–(४३)bandbox—(४४) bandstand—(४५) bandwagon —-(४६) bandwidth—-(४७) bandog—–(४८) multiband—–(४९) narrowband—-(५०) noseband——(५१) proband—-(५२)roband—-(५३)cowbind——–(५४)highbinder——-(५५)misbind——(५६) misbinding——-(५७) nonbinding—–(५८) prebind——(५९) rebind——-(६०) spellbind—-(६१)spellbinder—–(६२) unbind—(६३)woodbind

 

परिशिष्ट : यास्क मुनि के सिद्धान्त:

सिद्धान्त पहला:

सब नामों का मूल कुछ प्रारम्भिक तत्त्व हैं जिन्हें वह (यास्क) धातु कहता है। और इस कारण वह भार पूर्वक कहता है, कि प्रत्येक शब्द की मूल धातु खोजी जा सकती है, तथा कोई भी शब्द अनिर्वाच्य (शोध रहित मानकर) कहकर छोड दिया जाना नहीं चाहिए।

सिद्धान्त दूसरा:

विवेचक को चाहिए, कि शब्द के अर्थ को महत्त्व दे, और उस अर्थ को बताने वाले, रूप से किसी समानता के आधार पर निर्वचन करने का प्रयत्न करे।

तीसरा सिद्धान्त :

शब्दों का निर्वचन (मूल का शोध) उन के अर्थों को दृष्टि में रखकर किया जाना चाहिए। यदि उन के अर्थ समान हैं, तो उन के निर्वचन भी समान होने चाहिए, और यदि उन के अर्थ भिन्न हैं तो उन के निर्वचन भी भिन्न होने चाहिए।

इन तीनों सिद्धान्तों के उपयोग से ही हम अंग्रेज़ी-हिन्दी-संस्कृत का संबंध जोड पा रहे हैं।

Leave a Reply

13 Comments on "शब्द वृक्ष चार: डॉ. मधुसूदन"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
बी एन गोयल
Guest
बी एन गोयल

सुन्दर और तार्किक लेख है – किसी प्रकार का दुराग्रह नहीं – आपने मोनिएर विलिएअम्स का – अंग्रेजी – संस्कृत शब्द कोष देखा ही होगा –

डॉ. मधुसूदन
Guest

Aa. Goyal Mahogay, Namaskar.
Bahut bahut Dhanyavad.
Yah Alekh Nirukta ke siddhanto ke anuprayog se racha hai.
Aap ki Tippani ke lie Abhari hun.

Rekha Singh
Guest

प्रोफ.मधु सुदन जी आपके शब्द वृक्ष के सभी लेखो को पढने के बाद हमारी रूचि संस्कृत भाषा के प्रति और गहरी होती जा रही है |बड़ा ही आनंद आता है क्योकी हमारी समझ बढ़ती ही जा रही है |धन्यबाद

डॉ. मधुसूदन
Guest
शशि जी, और मोहन जी- आप दोनों की टिप्पणियों के लिए धन्यवाद| आज तक के अध्ययन से निम्न बाते पता चलती हैं| (१) लातिनी और यूनानी दोनों में संस्कृत के धातु पाए जाते हैं| इन दोनों की अपेक्षा हमारी संस्कृत पुरानी है| यह मोहन जी को स्पष्ट करने के लिए लिखा है| (अ) लातिनी और यूनानी में संस्कृत धातु है| (आ) हमारे व्याकरण के रूप भी अंग्रेज़ी में पहुंचे है| (इ)कुछ शब्दों के अर्थ का शोध भी संस्कृत के बिना संभव नहीं लगता| (ई) और भी स्फुट और गौण बाते ध्यान में आई है| (२) अंग्रेजों के भारत के संपर्क… Read more »
Mohan Gupta
Guest
अंग्रेजी भाषा की उत्पत्ति और विकास के वारे में शोध के लेखो से पता चलता हैं के अंग्रेजी में मूलता केवल ५०० शब्द थे ! अंग्रेज लोग केवल इन्ही ५०० शब्दों से गुजारा करते थे ! अंग्रेजी में शब्द रचना या निर्माण का कोई उचित या पर्प्यात डंग नहीं हैं! इसलिए अंग्रेज लोगो की विवशता हैं के बह लोग अन्य भाशौऊ के शब्दों को अपनाई! पहले अंग्रेजी में यूरोप की भाशौओ से शब्द लिए जाते थे ! इसलिए अंगेजी में लातिन और ग्रीक शब्द जयादा हैं ! ब्रिटिश साम्राज्य के दौरोन अंग्रेज जहा जहा गए वहा वहा से कुछ शब्द… Read more »
डॉ. मधुसूदन
Guest
जीत भार्गव जी, और शशि –आप दोनों का धन्यवाद| दीर्घ शोध से पता लगता है, की हमारी देववाणी संसार की अनेक भाषाओं में नामों से, शब्दों से, विशेषणों से, उपसर्गों से, प्रत्ययों से और क्रियापदीय धातुओं से कैसे अनुप्राणित कर रही है? एक बड़ी या कमसे कम छोटी पुस्तक लिखी जा सकती है| आपने सही कहा, प्रवक्ता पर ही १५ से २० लेख इसी विषय पर आप देख सकते हैं| प्रकल्पों के बिच समय मिलने पर अधिक समय लगा पाउँगा| ===>यास्क ने वैदिक शब्दों के अर्थ लगाने के लिए जो सिद्धांत बनाए थे, वे महाराज अंग्रेजी पर भी चल जाते… Read more »
wpDiscuz