आपने सुना, पशु-पक्षी भी गे /लेस्बियन होते हैं ………..

Posted On by & filed under टॉप स्टोरी, समाज

समलैंगिकता के समर्थकों से बहस टेढी खीर है । महाभारत काल से लेकर वात्स्यायन के कामसूत्र तक का जिक्र झटके में हो जाए तो कोई भी साधारण आदमी घबरा कर इधर-उधर ताकता नजर आता है ।