लेखक परिचय

शिवानंद द्विवेदी

शिवानंद द्विवेदी "सहर"

मूलत: सजाव, जिला - देवरिया (उत्तर प्रदेश) के रहनेवाले। गोरखपुर विश्वविद्यालय से राजनीति शास्त्र विषय में परास्नातक की शिक्षा प्राप्‍त की। वर्तमान में देश के तमाम प्रतिष्ठित एवं राष्ट्रीय पत्र-पत्रिकाओं में सम्पादकीय पृष्ठों के लिए समसामयिक एवं वैचारिक लेखन। राष्ट्रवादी रुझान की स्वतंत्र पत्रकारिता में सक्रिय एवं विभिन्न विषयों पर नया मीडिया पर नियमित लेखन। इनसे saharkavi111@gmail.com एवं 09716248802 पर संपर्क किया जा सकता है।

Posted On by &filed under राजनीति.


जय भोजपुरी परिवार के द्वारा चलाये गए ठाकरे के खिलाफ विरोध पत्र अभियान जिसकी खबर प्रवक्ता.कॉम पर प्रकाशित हुई थी, लागातार सफलता के नए नए आयाम गढ़ रहा है। खबर का असर कुछ इस तरह रहा की पत्र अभियान में लोगों ने बढ़ चढ़ कर हिस्सा लेना शुरू कर दिया है। जय भोजपुरी परिवार के सदस्यों ने जिस अभियान की शुरुआत १४ जनवरी के मिलन समारोह से की थी उसका असर सिर्फ भारत ही नहीं वरन दुनिया के अलग अलग देशों में रह रहे अप्रवासी भारतीयों पर भी हो रहा है। तत्कालीन सूचना के मुताबिक़ हाल हीं में संयुक्त अरब अमीरात से लगभग १०० पत्र प्रधान मंत्री कार्यालय में पोस्ट किये गएँ हैं। जिसमें केवल उत्तर भारतीय ही नहीं वरन देश के हर क्षेत्र के लोगों ने बढ़ चढ़ कर हिस्सा लिया है। जय भोजपुरी के दुबई में स्थानीय प्रतिनिधि जीतेन्दर जी चौहान के मुताबिक़ बहुत जल्दी ही और भी लोग पत्र अभियान में हिसा लेंगे। जय भोजपुरी ने विदेशों में भी अपने प्रतिनिधियों के माध्यम से विरोध पत्र अभियान को तीव्र एवं प्रभावी करने के लिए नयी मुहीम छेड़ रखी है। इसके पूर्व भी ठाकरे विरोधी तमाम अभियान चला चुका जय भोजपुरी परिवार अब इस काम के लिए आम जन मानस तक अपनी मुहिम तेज़ कर रखी है। इस मुहिम की सबसे ख़ास बात यह है कि इसमे न सिर्फ उत्तर भारतीय बल्कि देश के एनी हिस्सों जैसे कर्नाटक, तमिलनाडु, केरल, यहाँ तक कि महाराष्ट्र से भी इस मुहिम में शामिल हो रहे हैं। हालांकि इस तरह की मुहिम चलाने के लिए जय भोजपुरी परिवार को फोन एवं मेल के जरिये धमकियां भी मिल चुकी है। इन तमाम धमकियों से बेपरवाह जय भोजपुरी परिवार इस अभियान को राष्ट्रीय अभियान के तौर पर देख रहा है। चूँकि यह बताने कि जरुरत नहीं है कि आज ठाकरे परिवार राष्ट्रीय अखण्डता में कितना बड़ा खतरा है।

आप सभी पाठकों से गुजारिश है कि इस पत्र अभियान का हिस्सा बनते हुए एक सजग राष्ट्र प्रहरी के रूप में अपनी भूमिका का निर्वहन करें। आपका एक पत्र उन गैर राष्ट्रीय सोच रखने वाले तत्वों के मुह पर करारा तमाचा होगा। बहुत जल्द ही आप सबके सहयोग से जय भोजपुरी परिवार के समर्थन में देश विदेश से लोग भारी संख्या में आगे आयेंगे और इन दूषित एवं राष्ट्रीय एकता में बाधक तत्वों के खिलाफ मुहिम छेड़ेंगे। यह मुद्दा सिर्फ जय भोजपुरी परिवार का ही नहीं वरन सम्पूर्ण राष्ट्र का है जिसमें सम्पूर्ण राष्ट्र को सजग होने की जरुरत है। अगर आज राष्ट्र सजग नहीं हुआ तो ये असामाजिक एवं ओछी राजनीति चमकाने वाले तत्व देश को दीमक कि तरह चाट जायेंगे और फिर हमारे पास कहने सुनाने को कुछ नहीं बचेगा। केंद्र में एवं राज्य में सता में होते हुए भी सत्ताधारी दल के कान पर जू नहीं रेंग रहा है। अत: हम इस विरोध पत्र के माध्यम से सिर्फ ठाकरे परिवार ही नहीं वरन पूरे राष्ट्र के मतदान से सता के गलियारे तक पहुंचे लोगों को भी चेतावनी देना चाहते हैं कि अगर अब भी कोई कदम नहीं उठाया गया तो शायद लोगों का सता से विशवास ही न उठ जाए। अत: आप सबसे निवेदन है कि इस पत्र अभियान का हिस्सा बनते हुए राष्ट्रीय एकता एवं अखण्डता को बरकरार रखने हेतु आगे आयें!

-शिवानंद द्विवेदी “सहर”

Leave a Reply

1 Comment on "विदेशों में भी हो रहा ठाकरे विरोध, दुबई से आ रहें हैं विरोध पत्र"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
Satya Prakash
Guest

Good progress! Keep it up!

wpDiscuz