लेखक परिचय

संजय स्‍वदेश

संजय स्‍वदेश

बिहार के गोपालगंज में हथुआ के मूल निवासी। किरोड़ीमल कॉलेज से स्नातकोत्तर। केंद्रीय हिंदी संस्थान के दिल्ली केंद्र से पत्रकारिता एवं अनुवाद में डिप्लोमा। अध्ययन काल से ही स्वतंत्र लेखन के साथ कैरियर की शुरूआत। आकाशवाणी के रिसर्च केंद्र में स्वतंत्र कार्य। अमर उजाला में प्रशिक्षु पत्रकार। दिल्ली से प्रकाशित दैनिक महामेधा से नौकरी। सहारा समय, हिन्दुस्तान, नवभारत टाईम्स के साथ कार्यअनुभव। 2006 में दैनिक भास्कर नागपुर से जुड़े। इन दिनों नागपुर से सच भी और साहस के साथ एक आंदोलन, बौद्धिक आजादी का दावा करने वाले सामाचार पत्र दैनिक १८५७ के मुख्य संवाददाता की भूमिका निभाने के साथ स्थानीय जनअभियानों से जुड़ाव। विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं के साथ लेखन कार्य।

Posted On by &filed under राजनीति.


संजय swadesh

राजनीति के समझदार कह रहे हैं कि येदियुरप्पा के भाजपा से जाने के बाद पार्टी को करारा झटका मिलेगा, लेकिन फिलहाल ऐसा कुछ नहीं दिख रहा। भाजपा के रणनीतिकार इतने कच्चे नहीं कि यह मामूली बात नहीं समझते होंगे। येदि के जाने का बहुत असर पार्टी पर नहीं पड़ने वाला। पार्टी के एक गुप्त सर्वे में बताया गया है कि येदि के बगैर भी भाजपा को आसानी से 90 सीटें आ जाएंगी। थोड़ी रणनीतिक व्यवस्था की गई तो सीटों का शतक भी लगाया जा सकता है। फिलहाल 225 की विधानसभा में भाजपा के 118 विधायक हैं। सर्वे में येदि को 12 से 15 सीटें मिलने की संभावना जताई गई है। यही भाजपा को राहत देने के लिए काफी है। 12 से 15 सीटें की कीमत पर भाजपा सत्ता के लिए बार-बार ब्लैंकमेल करने वाले येदि के झंझट से मुक्ति पा सकता है। येदि पर भ्रष्टाचार का आरोप है। येदि के बलिदान से जनता के भाजपा के प्रति विश्वास बहाली की ही गुजाइश है।

वहीं भारतीय राष्टÑीय कांग्रेस कर्नाटक भाजपा में कलह के बाद टूटफूट के हालात पर मौका देखकर चौका मारने की फिराक में है। बागी येदियुरप्पा ने अपनी नई पार्टी बनाई नहीं कि कांग्रेसी चाणक्य कर्नाटक की सत्ता के लिए अनुकूल बिसात में अपनी दाल गलाने की जुगत में जुट गए हैं। येदियुरप्पा को कर्नाटक के लिंगायत समुदाय का प्रभावशाली नेता माना जाता है। कांग्रेस लिंगायत और वोकालिंगा जातीय गणित में कांग्रेस का हिसाब किताब फिट बैठाने के लिए प्रदेश के पूर्व सीएम और पूर्व विदेश मंत्री एसएम कृष्णा को आगे करने की रणनीति पर काम कर सकती है। हालांकि कर्नाटक के हालात को पहले ही कांग्रेस ने भांप लिया था। इसी कारण केंद्रीय कैबिनेट के फेरबदल में कृष्णा को सरकार से किनारे कर राज्य में भेजने का फैसला लिया गया था। अब एस एम कृष्णा को कर्नाटक भेजने की औपचारिक भर निभाना रह गया है। वोकालिंगा समुदाय का प्रतिनिधित्व करने वाले कृष्णा प्रदेश कमेटी के साथ मिलकर अगले साल होने वाली विधानसभा चुनाव में पार्टी की वैतरणी पार करने के खेवनहार के ख्वाब में है। लेकिन राजनीति का ऊंट किस करवट बैठेगा, यह तो समय ही बताएगा।

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz