लेखक परिचय

डॉ. राजेश कपूर

डॉ. राजेश कपूर

लेखक पारम्‍परिक चिकित्‍सक हैं और समसामयिक मुद्दों पर टिप्‍पणी करते रहते हैं। अनेक असाध्य रोगों के सरल स्वदेशी समाधान, अनेक जड़ी-बूटियों पर शोध और प्रयोग, प्रान्त व राष्ट्रिय स्तर पर पत्र पठन-प्रकाशन व वार्ताएं (आयुर्वेद और जैविक खेती), आपात काल में नौ मास की जेल यात्रा, 'गवाक्ष भारती' मासिक का सम्पादन-प्रकाशन, आजकल स्वाध्याय व लेखनएवं चिकित्सालय का संचालन. रूचि के विशेष विषय: पारंपरिक चिकित्सा, जैविक खेती, हमारा सही गौरवशाली अतीत, भारत विरोधी छद्म आक्रमण.

Posted On by &filed under स्‍वास्‍थ्‍य-योग.


यद्यपि ऐलोपैथी का एकछत्र साम्राज्य दुनियाभर के देशों पर नजर आता है पर इसका यह अर्थ बिल्कुल नही कि यह औषध सिद्धान्त सही है। ‘दवालॉबी’ का गाने से पूरा चित्र स्पष्ट हो जाता है।
विषाक्तता का सिद्धान्तः
आयुर्वेद तथा सभी चिकित्सा पद्धतियों में मूल पदार्थों यथा फल, फूल, पत्ते, छाल, धातु, आदि को घोटने, पीसने, जलाने, मारने, शोधन, मर्दन, संधान, आसवन आदि क्रियाओं में गुजारा जाता है। इनमें ‘एकल तत्व पृथकीकरण’ का सिठ्ठान्त है ही नहीं। विश्व की एकमात्र चिकित्सा पद्धति ऐलोपैथिक है जिसमें ‘एकल तत्व पृथकीकरण’ का सिद्धान्त और प्रकिया प्रचलित है। इसकी यही सबसे बड़ी समस्या है। एक अकेले साल्ट, एल्कलायड या सक्रीय तत्व के पृथकी करण (single salt sagrigation) से प्रकृति द्वारा प्रदत्त पदार्थ का संतुलन बिगड़ जाता है और वह विषकारक हो जाता है। हमारे (metabolism) पर निश्चित रूप से विपरीत प्रभाव डालने वाला बन जाता है। 
 
वास्तव मे इस प्रक्रिया में पौधे या औषध के प्रकृति प्रदत्त संतुलन को तोड़ने का अविवेकपूर्ण प्रयास ही सारी समस्याओं की जड़ है। पश्चिम की एकांगी, अधूरी, अनास्थापूर्ण दृष्टी की स्पष्ट अभिव्यक्ति ऐलोपैथी में देखी जा सकती है।
अंहकारी और अमानवीय सोच तथा अंधी भौतिकतावादी दृष्टी के चलते केवल धन कमाने, स्वार्थ साधने के लिये करोड़ों मानवों (और पशुओं) की बली ऐलोपैथी की वेदी पर च़ रही है। एकात्म दर्शन के द्रष्टा स्व. दीनदयाल उपाध्याय के अनुसार पश्चिम की सोच एकांगी, अधूरी, असंतुलित अमानवीय और अनास्थापूर्ण है। जीवन के हर अंग को टुकड़ों में बाँटकर देखने के कारण समग्र दृष्टी का पूर्णतः अभाव है। प्रत्येक जीवन दर्शन अधूरा होने के साथसाथ मानवता विरोधी तथा प्रकृति का विनाश करने वाला है। ऐलोपैथी भी उसी सोच से उपजी होने के कारण यह एंकागी, अधूरी और प्रकृतिक तथा जीवन विरोधी है।

Leave a Reply

4 Comments on "एलोपैथिक दवाओं की विषाक्तता का सिद्धान्त"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
डॉ. राजेश कपूर
Guest
कृपया स्वास्थ्य स्तम्भ में जाकर चौथे लेख को देखें. इसी विषय पर अधिक विस्तृत लेख है. किसी भूल वश यह अधूरा लेख छप गया है. संपादक महोदय से मोडरेशन व संशोधन का निवेदन किया है, आशा है की हो जाएगा. * हर प्रकार के रोगी व स्वस्थ व्यक्ती को कभी-कभी विष पदार्थों (टोक्सिंज़) को निकालने की चिकित्सा करते रहना चाहिए. इस हेतु स्वास्थ्य स्तम्भ में ”हैपेटाईटिस का इलाज आसान है” इस लेख में दिए उपचार को ४-६ मास में एक बार करते रहें. लीवर, गुर्दे, स्प्लीन आदि स्वस्थ रहेंगे. होमियोपैथिक दावा ले रहे हों तो कपूर का प्रयोग इस उपचार… Read more »
डॉ. राजेश कपूर
Guest
*- श्रीमान सिंह जी आप सही कह रहे हैं. यह लेख तो अधूरा ही है. किसी तकनीकी भूल के कारण ऐसा हुआ हो सकता है. पुनः प्रेषित करके सम्पादक जी से निवेदन करूंगा की इसे पुनः छापें. ध्यान दिलाने हेतु आपका बहुत-बहुत धन्यवाद ! *- डा. महेश सिन्हा जी आपकी बात से मतभेद का कोई कारण नहीं. एलोपैथी को छोड़कर संसार की एक भी चिकित्सा पद्धती ऐसी नहीं जिसने यह भयंकर भूल की हो. इसी के कारण एलोपैथी की हर दवा निश्चित रूप से विशाकारक प्रभाव वाली होती है. यहाँ तक की इनके विटामिन तक हमारे स्वास्थ्य का विनाश करते… Read more »
आर. सिंह
Guest
डाक्टर कपूर,इस बार का आपका आलेख बड़ा अधूरा सा और आपकी प्रकृति के विपरीत लगा. ऐसे आपने जो लिखा है,उससे मैं बहुत हद तक सहमत हूँ.एलोपैथी पद्धति रोग का निदान नहीं करती बल्कि उसको दबाती है,इसको दूसरे ढंग से कहा जाये तो यह कहा जा सकता है की यह रोग की तह में न जाकर उसके बाहरी प्रभाव को ख़त्म करती है. अगर किसी को बुखार है तो यह आधुनिक पद्धति उस बुखार को ख़त्म करती है,जबकि सही यह होता की शारीर में जिन अशुद्धियों के कारण बुखार हुआ उसको ख़त्म किया जाता.मैं नहीं जानता की अन्य चिकित्सा पद्धतियों में… Read more »
डॉ. महेश सिन्‍हा
Guest

राजेश जी ऐसा ही होमियोपथी में भी होता है । अलोपथी के चलने का मूल कारण इसके त्वरित प्रभाव का गुण है । दूसरी पद्धतियाँ इस लिए भी पिछड़ गयी क्योंकि इनके चिकित्सकों ने ही एलोपथी उपयोग करना प्रारम्भ कर दिया, बजाय इसके की आयुर्वेद को आधुनिक विज्ञान से जोड़ते ।

wpDiscuz