लेखक परिचय

नरेश भारतीय

नरेश भारतीय

नरेश भारतीय ब्रिटेन मे बसे भारतीय मूल के हिंदी लेखक हैं। लम्बे अर्से तक बी.बी.सी. रेडियो हिन्दी सेवा से जुड़े रहे। उनके लेख भारत की प्रमुख पत्रिकाओं में प्रकाशित होते रहते हैं। पुस्तक रूप में उनके लेख संग्रह 'उस पार इस पार' के लिए उन्हें पद्मानंद साहित्य सम्मान (2002) प्राप्त हो चुका है।

Posted On by &filed under जन-जागरण, हिंदी दिवस.


सभी क्षेत्रीय भाषाओं को यथास्थान यथायोग्य सम्मान देते हुए हिंदी को भारत की राष्ट्रभाषा घोषित किया जाना अभी शेष है। अगले सप्ताह 10-12 सितम्बर को भोपाल में दशम विश्व हिंदी सम्मेलन का आयोजन बड़े उत्साह के साथ किया जा रहा है। इसमें भारत के शीर्ष नेता भाग ले रहे हैं। मैं विदेशमन्त्री श्रीमती सुषमा स्वराज का इसके लिए अभिनन्दन करता हूँ कि उनके निर्देशन में इसकी प्रभावी रुपरेखा तैयार की गई है। गृहमंत्री श्री राजनाथसिंह और मध्यप्रदेश के यशस्वी मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह प्राणपण से इसके साथ जुड़ रहे हैं। देश विदेश से हिन्दीप्रेमियों को आमन्त्रित किया गया है।

है यह आयोजन अभूतपूर्व सफलता प्राप्त करेगा। लेकिन इस बात पर ध्यान दिए जाने की आवश्यकता है कि पहले की तरह यह सम्मेलन भी सिमट कर एक आयोजन मात्र न रह जाए जिसमें हिंदी की विश्व स्तरीय महत्ता की चर्चा तो हो लेकिन भारत इसे वैधानिक दृष्टि से राष्ट्रभाषा का दर्जा देने से अभी भी कतराए। माननीय प्रधानमन्त्री श्री नरेंद्र मोदी स्वयं हिंदी के प्रबल समर्थक हैं और उन्होंने अपने विदेश प्रवासों में हिंदी का कीर्ति ध्वज गर्व के साथ फहराया है। मेरा उनसे अनुरोध है कि इस हिंदी सम्मेलन में हिंदी को राष्ट्रभाषा बनाने के लिए संविधान में आवश्यक प्रावधान करने के अपने संकल्प की घोषणा करके इस सम्मेलन को सार्थकता प्रदान करें।  स्वतन्त्रता प्राप्ति के 68 वर्ष बाद अब इस विषय पर पुष्ट निर्णय की नितांत आवश्यकता है।

सम्मेलन की सफलता के लिए मेरी हार्दिक शुभकामनाएं,

नरेश भारतीय

Leave a Reply

6 Comments on "दशम विश्व हिंदी सम्मेलन में प्रधानमन्त्री मोदी हिंदी को राष्ट्रभाषा बनाने के संकल्प की घोषणा करें"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
इंसान
Guest

भारत में चल रहे वर्तमान राजनैतिक वातावरण में बीबीसी वर्ल्ड सर्विस के पूर्व हिंदी रेडियो प्रसारक नरेश अरोरा जी को हिंदी भाषा के संदर्भ में “दशम विश्व हिंदी सम्मेलन में प्रधानमन्त्री मोदी हिंदी को राष्ट्रभाषा बनाने के संकल्प की घोषणा करें” जैसे शीर्षक के अंतर्गत अपने विचार लिखने में सतर्कता बरतनी चाहिए। उन्हें मालूम होना चाहिए कि प्रधान मंत्री नरेंद्र दामोदरदास मोदी जी के नेतृत्व में केंद्र के राष्ट्रीय शासन को “सूट-बूट की सरकार” कह विपक्ष ने पहले से ही सरलमति भारतीय जनता में संशय और भय उत्पन्न करने का क्रूर प्रयास किया है।

डॉ. मधुसूदन
Guest
राष्ट्र भाषा का पद विभूषित करने की क्षमता मुझे केवल हिन्दी में ही दिखती है। हिन्दी राष्ट्र भाषा घोषित होते ही, युनो में उसे स्वीकार्य होने की एक अनिवार्य शर्त पूरी होगी। युनो में हिन्दी स्वीकृत होने के बाद आप सभी का मस्तक ऊंचा ही होगा। प्रामाणिकता(ईमानदारी) से बोलिए। अंग्रेज़ी तो पर-राष्ट्र-भाषा है। हिन्दी कम से कम अपने देश की भाषा है। और अन्य किसी भाषा में मुझे ऐसी राष्ट्र भाषा की संभावना दिखती नहीं है। मेरी मातृभाषा भी हिन्दी नहीं है। एक बार वायोमिंग शोध पत्र पढने जाना हुआ था। १२-१४ भारतीय प्रोफ़ेसर दुपहर भोजन पर साथ बैठे और… Read more »
नरेश भारतीय
Guest
नरेश भारतीय
हिंदी को राष्ट्रभाषा बनाने का अर्थ कदापि यह नहीं है कि देश की क्षेत्रीय भाषाओँ की उपेक्षा की जाए. मैंने इसीलिए अपनी टिप्पणी के प्रारंभ में ही उन्हें यथायोग्य यथास्थान सम्मान दिए जाने की बात कही है. दक्षिण भारत में हिंदी का सार्वजनिक विरोध नहीं है अपितु राजनीतिक स्वार्थ के लिए कुछ लोग विरोध को उभारने की कोशिश करते हैं. विश्व में हर उस देश की एक राष्ट्रभाषा होती है जो उसकी एकता और एकात्मकता की प्रतीक होती है. संस्कृत के पश्चात भारत में सर्वाधिक जनसँख्या को हिंदी भाषा का व्यावहारिक ज्ञान है और समूचे देश में यह बोलचाल, लेखन… Read more »
shrinivas Joshi
Guest
नरेश भारतीय जी के इस लेख में हिंदी को राष्ट्रभाषा घोषित करने का जो सुझाव दिया गया है उससे मैं सहमत नहीं हूँ. माननीय लेखक महोदय जानते ही होंगे की दक्षिण भारत में, और विशेष कर तामिलनाडु में, हिंदी को काफी विरोध है. आनंद की बात यह है की पिछले पाँच दस वर्षों से इस विरोध की तीव्रता थोड़ी कम हो रही है. परन्तु जब कभी कोई केन्द्रीय मंत्री या वरिष्ठ अधिकारी हिंदी का उपयोग या महत्त्व बढाने की बात करता है तब वहाँ का हिंदी विरोध फिर से उभर आता है. इस लिए हिंदी के बारे में हमारे नेता… Read more »
इंसान
Guest
श्रीनिवास जोशी जी, मैं आपके विचारों से सौ प्रति शत सहमत हूँ। स्वयं मेरी मातृ भाषा पंजाबी होते हुए मेरी हिंदी भाषा में रुचि अधेड़ आयु में हुई है क्योंकि आज मेरा विश्वास है कि न केवल राष्ट्रवाद (सभी भारतीयों को एक भाषाई डोर में बांधते संगठित करना) बल्कि सामाजिक और आर्थिक दृष्टि से भी हिंदी भाषा का बहुत महत्व है। आज के सूक्ष्म राजनैतिक वातावरण में प्रस्तुत लेख के शीर्षक के अनुसार हिंदी भाषा को समस्त भारतवासियों पर “थोपना” विभाजनात्मक क्रिया हो सकती है। “बिना बोले” यदि हम दसवीं विश्व हिंदी सम्मेलन के मुख्य उद्देश्य, “हिंदी जगत : प्रसार… Read more »
Laxmirangam
Guest

नरेश जी,

मैं आपके साथ हूँ…

लेकिन यह गलत है कि हिंदी आज हमारी राष्ट्रभाषा है,…
यह स्टिकर आपके लेख पर लगा है…
मैं इससे सहमत नहीं हूँ.

wpDiscuz