सहारनपुर के पुरातात्विक स्थलों पर शोध जारी

Posted On by & filed under विविधा

डा. राधेश्याम द्विवेदी हड़प्पा कालीन सकतपुर में खुदाई शुरु:- भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण आगरा मंडल के अधीक्षण पुरातत्वविद डा. भुवन विक्रम के अनुसार हड़प्पा कालीन सभ्यता में पहले मेरठ के आलमगीर स्थान को छोर माना गया था, लेकिन सहारनपुर में हुलास और बाड़गांव में मृदभांड मिलने के बाद दक्षिणी छोर पर मौजूद गांव में तांबे की… Read more »

अनोमा नदी की बदहाली

Posted On by & filed under विविधा

डा. राधेश्याम द्विवेदी वर्तमान आमी नदी का पुराना नाम अनोमा है। अनोमा का मतलब सामान्य होता है। हो सकता है कि इस नदी के सामान्य आकार और स्वरुप के कारण इसका अनोमा जैसा छुद्र नाम रहा हो। छोटी नदी होते हुए भी इस नदी में हमेशा कुछ ना कुछ पानी जरुर रहता है। यह बौद्ध… Read more »

मैं जब भ्रष्ट हुआ

Posted On by & filed under व्यंग्य, साहित्‍य

वीरेन्द्र परमार मेरी नियुक्ति जब एक कमाऊ विभाग में हुई तो परिवार के लोगों और सगे – संबंधियों को आशा थी कि मैं शीघ्रातिशीघ्र भ्रष्ट बनकर राष्ट्र की मुख्यधारा में जुड़ जाऊंगा लेकिन आशा के विपरीत जब मैं एक दशक तक भ्रष्ट नहीं हुआ तो सभी ने एक स्वर से मुझे कुल कलंक घोषित कर… Read more »

जम्मू कश्मीर में आतंकवादियों के छिपे समर्थक

Posted On by & filed under महत्वपूर्ण लेख, विविधा

डा० कुलदीप चन्द अग्निहोत्री जम्मू कश्मीर तीन दशकों से भी ज़्यादा समय से आतंकवादियों की चपेट में है । यह आतंकवाद पाकिस्तान द्वारा प्रायोजित है , इसमें भी कोई संशय नहीं है । सुरक्षाबलों पर हमला करने के लिए आतंकवादी अपनी रणनीति बनाते हैं ताकि वे उन्हें ज़्यादा से ज़्यादा नुक़सान पहुँचा सकें । इस… Read more »

शादियां: कश्मीर दिखा रहा रास्ता

Posted On by & filed under समाज

जम्मू-कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने वह कर दिखाया है, जो देश के हर मुख्यमंत्री को करना चाहिए। शादियों में होने वाले अनाप-शनाप खर्च पर रोक लगाने का जो विधेयक संसद में आ रहा है, उस पर मुहर लगे या न लगे लेकिन हर प्रदेश की सरकार चाहे तो वह ऐसे कड़े कानून बना सकती… Read more »

तेरी गठरी में लागी भाजपा, कांग्रेस जाग जरा

Posted On by & filed under राजनीति

भाजपा का कांग्रेसमुक्त पूर्वोत्तर अभियान श्री नरेन्द्र मोदी के बारे में मशहूर है कि वह एक साथ 100 से अधिक एजेण्डों पर काम कर रहे हैं। कहा यह भी जाता है कि लक्ष्य हासिल करने के लिए वह ‘येन-केन-प्रकारेण’ पर विश्वास करते हैं। यही बात राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के बारे में भी कही जाती रही… Read more »

चुनाव सुधार : बस, चार कदम चलना होगा

Posted On by & filed under राजनीति, विधि-कानून

जनगणना-2011 के अनुसार, कुल भारतीय ग्रामीण आबादी में से 74.5 प्रतिशत परिवारों की आय पांच हजार रुपये प्रति माह से कम है। इसके विपरीत भारत की वर्तमान केन्द्रीय मंत्रिपरिषद के 78 मंत्रियों में से 76 करोड़पति हैं। राज्य विधानसभाओं के 609 मंत्रियों में से 462 करोड़पति हैं। स्पष्ट है कि भारत की जनता गरीब है,… Read more »

नौकरशाही में भ्रष्टाचार के मगरमच्छ

Posted On by & filed under विविधा

प्रमोद भार्गव शीर्ष नौकरशाही में ऐसे मगरमच्छ सामने आए हैं, जो बागड़ द्वारा खेत चरने की कहावत को चरितार्थ कर रहे थे। आर्थिक आपराधों पर शिकंजा कसने वाली देश की सर्वोच्च संस्था ‘केंद्रीय जांच ब्यूरो‘ (सीबीआई) ने अपने ही पूर्व निदेशक एपी सिंह पर एफआईआर दर्ज की है। सीबीआई के ही दूसरे सेवानिवृत्त निदेशक रंजीत… Read more »

भगवान शिव के अनेक अवतार

Posted On by & filed under धर्म-अध्यात्म

डा.राधेश्याम द्विवेदी हिंदू धर्म ग्रंथ पुराणों के अनुसार भगवान शिव ही समस्त सृष्टि के आदि कारण हैं। उन्हीं से ब्रह्मा, विष्णु सहित समस्त सृष्टि का उद्भव होता हैं। जिस प्रकार विष्णु के 24 अवतार हैं उसी प्रकार शिव के भी 28 अवतार हैं। वेदों में शिव का नाम ‘रुद्र’ रूप में आया है। रुद्र संहार… Read more »

होली के वासंती रंग में बाजार का कृतिम रंग न चढ़ाएं 

Posted On by & filed under कला-संस्कृति, धर्म-अध्यात्म, वर्त-त्यौहार

अखिलेश आर्येन्दु हम यदि होली के विभिन्न संदर्भों की बात करें तो पाते हैं कि न जाने कितने संदर्भ, घटनाएं, प्रसंग, परंपराएं और सांस्कृतिक-तत्त्व किसी न किसी रूप में इस प्रेम और सदभावना के महापर्व से जुडे़ हुए हैं। लेकिन सबसे बड़ा प्रतीक इस पर्व का प्रेम का वह छलकता अमृत-कलश है जिसमें हमारा अंतर-जगत्… Read more »