लेखक परिचय

डॉ. राजेश कपूर

डॉ. राजेश कपूर

लेखक पारम्‍परिक चिकित्‍सक हैं और समसामयिक मुद्दों पर टिप्‍पणी करते रहते हैं। अनेक असाध्य रोगों के सरल स्वदेशी समाधान, अनेक जड़ी-बूटियों पर शोध और प्रयोग, प्रान्त व राष्ट्रिय स्तर पर पत्र पठन-प्रकाशन व वार्ताएं (आयुर्वेद और जैविक खेती), आपात काल में नौ मास की जेल यात्रा, 'गवाक्ष भारती' मासिक का सम्पादन-प्रकाशन, आजकल स्वाध्याय व लेखनएवं चिकित्सालय का संचालन. रूचि के विशेष विषय: पारंपरिक चिकित्सा, जैविक खेती, हमारा सही गौरवशाली अतीत, भारत विरोधी छद्म आक्रमण.

Posted On by &filed under धर्म-अध्यात्म.


डॉ. राजेश कपूर

कई बार सच हमारे सामने होता है पर हम उसे देख नहीं पाते. भारत पर इस्लामी आक्रमणों के बारे में कुछ ऐसा ही हुआ है. अपनी स्थापना के चन्द दशकों के भीतर इस्लाम ने सारे अरब, अफ्रीका, आधे यूरोप को जीत लिया. इतिहास में ऐसा जोश और किसी में नज़र नहीं आता. यह कमाल मुहम्मद साहेब की दूर-दृष्टि का है. ‘भूतो न भविष्यति’ की कहावत जैसी स्थिति है. इससे पहले न कोई ऐसा सम्प्रदाय बना और न बनने की अब उम्मीद है. ऐसा कभी न हारनेवाला जनूनी मज़हब भारत पर सन ७०० के बाद से एक हज़ार साल तक हमले करता रहा पर उसे सफलता न मिली. ७०० साल के लम्बे संघर्ष के बाद कुछ सफल हुआ. क्या कायर भारत यह कमाल कर सकता था?

दुनिया में भारत के अलावा और कौन है जो इस्लाम के आगे टिका ही नहीं, अपनी पहचान को भी बनाए रख सका. और कोई कर सका यह कमाल? फिर हम कायर कैसे? भारत में अपने आगमन से अपने शासन की समाप्ति तक एक भी मुस्लिम शासक ऐसा नहीं था जिसका पूरे भारत देश पर राज्य स्थापित हो सका हो.

भारत में एक भी ऐसा कोई विदेशी शासक नहीं हुआ जो एक रात भी चैन की नीद सोया हो. एक भी दिन उसके शासन का ऐसा नहीं जब उसके राज्य में आज़ादी के लिए युद्ध या संघर्ष न हुआ हो. एक भी दिन ऐसा नहीं जिस दिन भारत के देशभक्तों का रक्त आज़ादी पाने के लिए न बहा हो.

दुनिया के इतिहास में एक भी उदाहरण नहीं है जब किसी समाज ने मुस्लिम आक्रमणकारियों के साथ इतना लंबा संघर्ष किया हो और अपनी पहचान, अपनी संस्कृती को बना-बचा कर रखा हो. इतनी लम्बी आजादी की लड़ाई लड़ने का और कोई एक भी उदाहरण संसार में नहीं मिलता.

स्मरणीय बात यह है कि यदि हम सदा हारते रहे, हम कायर थे तो फिर अरबी आक्रामकों को भारत में घुसने में ५-६ सौ साल कैसे लग गए.?

हज़ार साल तक विदेशी आक्रमणकारियों के साथ कोई कायर लड़ सकता है क्या? यह वह सच्चाई है जो सामने होते हुए भी हमको नज़र नहीं आती.

भारतीयों के पतन का काम मैकाले द्वारा १८४० में पहला कॉन्वेंट स्कुल खोलने के साथ शुरू हुआ. पर इसके कोई विशेष परिणाम अनेक दशकों तक नज़र नहीं आये. धीरे- धीरे ये कान्वेंट स्कूल बढ़ते गए और तथाकथित आज़ादी के बाद बहुत तेज़ी से बढे. तब हमारा चारित्रिक पतन अधिक तेज़ी से हुआ. जापान ने इस कान्वेंट स्कूलों के खतरे को समझ लिया था, अतः उन्होंने आज़ादी मिलते ही जो पहले काम किये उनमें एक था इन कान्वेंट स्कूलों को बंद करना.

मेरा, आपका जन्म भारत के इस पतन के बाद ही हुआ है न? अतः भारत की जो तस्वीर हम-आप देख रहे हैं वह असली भारत नहीं है. क्या इसे देखकर विदेशी विद्वान भारत के दीवाने बने और बन रहे हैं? उन्हों ने पश्चिम की असलियत और असली भारत की असलियत को ठीक से देखा है, जो अनेक लोग नहीं देख पा रहे.

यह वर्तमान परिदृश्य असली भारत नहीं, यह वह भारत है जो मैकाले जैसों ने बनाने का षड्यंत्र किया था. इस झूठ को चीर कर असली भारत को देखना थोड़ा सा मुश्किल ज़रूर है, पर असम्भव नहीं.

आप किसी एक क्या अनेक कहानीकारों और साहित्यकारों का उदाहरण दे सकते हैं जिन्हों ने भारत के बारे में बहुत कुछ बड़ा अपमानजनक लिखा है. ऐसे ही लोग पैदा करने के लिए मैकाले जैसों ने मेहनत की थी जो अपने आप को, अपनी जननी, अपनी मातृभूमि, अपनी परम्पराओं को गाली देने में प्रसन्नता अनुभव करते हैं.

इस प्रकार ऐतिहासिक तथ्यों के विश्लेषण से यह बात स्पष्ट हो जाती है कि इस्लामी संस्कृति के साथ एक हज़ार साल तक संघर्ष करने वाली विश्व की एकमात्र अविजित शक्ति हिन्दू शक्ति है जो आज भी अपनी पहचान को बनाए हुए है. संसार के इतिहास में कोई दूसरा एक भी ऐसा उदहारण दुर्लभ है. भारत और भारतीय संस्कृति व समाज की एकांगी निंदा करने वाले लोग सच्चाई को नहीं जानते और मैकाले के षड्यंत्रों के शिकार बन कर भारत व भारतीय समाज की केवल आलोचना करते रहते हैं और इसकी अच्छाईयों व विशेषताओं से अनजान हैं.

Leave a Reply

9 Comments on "हम कमज़ोर हैं क्या?"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
uttam kumar
Guest

कपूर जी आपका लेख मुझे बहुत पसंद आया.

bhagwati prasad
Guest

आपको पुस्तको के बारे में बताने के लिए धन्यवाद

डॉ. राजेश कपूर
Guest

मान्यवर प्रो. मधुसुदन जी, ज्ञानवर्धक टिपण्णी हेतु आभार. जिन अल्स्ट महोदय का आपने वर्णन किया है उनके बारे में मैं नहीं जानता, जानना चाहूँगा. उनके लेखन पर कुछ जानकारी देसकें तो कृपा होगी.
संतोष जी आपका विश्लेषण व कथन सही है, मैं आपसे सहमत हूँ.

Santosh Kumar Singh
Guest
आदरणीय कपूर साहब हम कायर न कभी थे और न है, लेकिन यह भी अकाट्य सत्य है कि हम तब भी कमजोर थे और अब भी है | इस कमजोरी के पीछे सबसे बड़ा कारण हमारा टुकड़ो में होना है | हमारे देश में कभी भी समग्र एकजुटता नही रही है वर्ना कोई भी आक्रमणकारी कभी हमारे ऊपर राज नहीं करता, लेकिन अब आत्मावलोकन का समय है | अब हमें जाति, सम्प्रदाय, भाषा ,प्रान्त के बन्धनों से ऊपर उठकर सबकी अच्छाइयों को समेटना होगा तभी हम आनेवाली चुनौतिओं से निपट कर एक सशक्त भारत की कल्पना कर सकते है |
डॉ. मधुसूदन
Guest
मान्यवर, डॉ. राजेश कपूर जी। धन्यवाद- एक उपेक्षित बिंदू की ओर ध्यान आकर्षित करने के लिए। (१) बिलकुल सही निदान है इतिहासका। दीर्घ कालीन संघर्ष में हम विजय ही प्राप्त करते आए हैं। बाकी संसार भर में कोई इतनी लंबी अवधितक संघर्ष नहीं कर पाया है। फ्रॅंक्वा गौटिएर भी, और कोन्राड एल्स्ट भी यही बात कहते हैं। वैदिक कालसे लेकर आज तक ३८ संस्कृतियां आयी और मिट भी गयी। यही हमें सनातन बना देता है। (२) पर हमने, हमारी जनसंख्या का कुछ भाग, एवं भू भाग खो दिया है।यह हमारी जिन गलतियोंका परिणाम है, इस ऐतिहासिक सच्चाई से भी कुछ… Read more »
wpDiscuz