More
    Homeपर्यावरणनेट जीरो पर स्पष्टता के लिए आईएसओ ने किए वैश्विक दिशानिर्देश जारी...

    नेट जीरो पर स्पष्टता के लिए आईएसओ ने किए वैश्विक दिशानिर्देश जारी  


    तमाम वैश्विक संस्थानों और सरकारों के लिए नेट ज़ीरो लक्ष्य हासिल करने को सुगम बनाते हुए इंटेरनैशनल स्टैंडर्ड्ज ऑर्गनाइज़ेशन, आईएसओ, ने आज बहुप्रतीक्षित नेट जीरो दिशानिर्देश प्रकाशित किए हैं।

    जो बात इस घटनाक्रम को खास बनाती है वो है कि 1,200 से अधिक संगठन और विशेषज्ञ केवल तीन महीनों में एक आम सहमति वाली प्रक्रिया में, आईएसओ मंच के माध्यम से, नेट ज़ीरो के लिए दिशा निर्देश बनाने के लिए एक साथ आए। यह काम नेट ज़ीरो मानकों के मौजूदा परिदृश्य के आधार पर बने हैं।  

    यह नेट ज़ीरो दिशानिर्देश उन सभी संगठनों का समर्थन करेंगे जो दूसरों के उपयोग के लिए नेट ज़ीरो पर नीतियां, ढांचे, मानक या अन्य पहल विकसित करते हैं। साथ ही, यह नेट ज़ीरो पर सभी संस्थानों का एक समान दृष्टिकोण अपनाए जाने पर ज़ोर देगा। यह दिशानिर्देश फिलहाल अंग्रेजी, फ्रेंच, स्पेनिश और अरबी में उपलब्ध होंगे।

    इस पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए यूएन क्लाइमेट चेंज हाई-लेवल चैंपियन, निगेल टॉपिंग ने कहा, “मुझे आईएसओ के नेट जीरो गाइडलाइंस के प्रकाशन का स्वागत करते हुए खुशी हो रही है और उन सभी को बधाई देता हूं जिन्होंने उन पर काम किया है। इस साल की शुरुआत में जैसा हमने पिवोट प्वाइंट रिपोर्ट में हाइलाइट किया है, अगर हमें पेरिस समझौते के लक्ष्यों को पूरा करने में सरकारों की मदद करने के लिए आवश्यक नियामक वातावरण को प्रभावी ढंग से और तेजी से अनलॉक करना है, तो हमें नेट ज़ीरो पर स्पष्ट, सुसंगत और सामंजस्यपूर्ण वैश्विक मानकों की आवश्यकता है। ये नेट ज़ीरो दिशानिर्देश रेस टू ज़ीरो स्वैच्छिक मानदंडों पर मददगार रूप से निर्मित होते हैं और वैश्विक अभिनेताओं को संरेखण में लाने, महत्वाकांक्षा को पूरा करने और ग्रीनवाशिंग को संबोधित करने के लिए नेट ज़ीरो पर एक मुख्य संदर्भ पाठ के रूप में उपयोग किया जा सकता है।”

    आगे, आईएसओ के अध्यक्ष, उल्रिका फ्रेंके ने कहा, “हमें विश्वास है, और गर्व है कि पेरिस समझौते के लक्ष्यों को प्रभावी ढंग से पूरा करने के लिए इन दिशानिर्देशों का व्यापक रूप से सरकार और उद्योग में उपयोग किया जाएगा और नेट ज़ीरो के अर्थ को अधिक विश्वसनीयता प्रदान की जाएगी। यह प्रकाशन अंतरराष्ट्रीय समुदाय को जलवायु प्रतिबद्धताओं को पूरा करने के लिए करीब लाने और 2050 के लिए सही रास्ते पर दुनिया को स्थापित करने में एक ऐतिहासिक मील का पत्थर है। आईएसओ दुनिया भर में सकारात्मक प्रभाव बढ़ाने और यह सुनिश्चित करने के लिए निर्धारित है कि हमारे नेट जीरो दिशानिर्देशों का व्यापक संभव पहुंच के साथ उपयोग किया जाता है। “

    इसी क्रम में यूएनएफसीसीसी ग्लोबल इनोवेशन हब, मासम्बा थियोये ने कहा,  “ग्लोबल वार्मिंग मानव सामाजिक, राजनीतिक और आर्थिक प्रणालियों के सामने अब तक की सबसे बड़ी चुनौतियों में से एक है; इसे दूर करने के लिए व्यवहार परिवर्तन और व्यवस्था परिवर्तन दोनों का समर्थन करने के लिए नवाचार की आवश्यकता है। नेट ज़ीरो दिशानिर्देश उन प्रणालियों और संगठनों के लिए एक सामान्य संदर्भ बिंदु प्रदान करते हैं जो इन परिवर्तनकारी ताकतों के अधीन होंगे। इस सामान्य संदर्भ बिंदु से जलवायु और स्थिरता समाधानों के विकास को प्रोत्साहित करने की उम्मीद है जो जलवायु और स्थिरता लक्ष्यों के साथ संरेखित मूल्य-श्रृंखला के बावजूद मुख्य मानव आवश्यकताओं की संतुष्टि को सक्षम बनाता है। ”

    नेट जीरो गाइडलाइंस को इंटरनेशनल ऑर्गनाइजेशन फॉर स्टैंडर्डाइजेशन इंटरनेशनल वर्कशॉप एग्रीमेंट (आईडब्ल्यूए) प्रक्रिया के माध्यम से विकसित किया गया था, जो वर्चुअल वर्कशॉप की एक श्रृंखला है जिसका उद्देश्य वो अंतिम दिशानिर्देश तैयार करना है जो नेट जीरो तक पहुंचने पर वैश्विक दृष्टिकोण को दर्शाता है। यह पहल आईएसओ, यूएन रेस टू जीरो और यूएनएफसीसीसी के ग्लोबल इनोवेशन हब के बीच हमारे 2050 विश्व सहयोग के माध्यम से संभव हुई, जिसे यूके के राष्ट्रीय मानक निकाय, बीएसआई द्वारा बुलाया गया है।

    निशान्त
    निशान्त
    लखनऊ से हूँ। जलवायु परिवर्तन और पर्यावरण संरक्षण के मुद्दे को हिंदी मीडिया में प्राथमिकता दिलाने की कोशिश करता हूँ।

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    * Copy This Password *

    * Type Or Paste Password Here *

    11,639 Spam Comments Blocked so far by Spam Free Wordpress

    Captcha verification failed!
    CAPTCHA user score failed. Please contact us!

    Must Read