श्री बोनी कपूर के मन के उदगार

5
324

काश! आज तुम होती
फिल्म फेस्टिवल का
बेस्ट फिमेल एक्ट्रेस का
राष्टीय पुरष्कार लेती

तेरे बिन मन नही लगता
अपना सा कोई नहीं लगता
सूना सा सारा संसार लगता
चारो तरफ अँधेरा सा लगता

काश!मेरी “चांदनी” होती
ये अँधेरा दिखाई न देता
ये संसार सूना दिखाई न देता
इस अवार्ड के साथ मै होता
तुमको अपनी बाहों में भर लेता 

काश! आज बच्चो की माँ होती
जान्हवी की फिल्म रिलीज होने पर
वह अपने बच्चो को आशीर्वाद देती
वह कितनी खुश दिखाई देती

मृत्यु ने तुम्हे क्यों बुलाया ?
मै अभी तक जान न पाया
काश! ऐसा कुछ न होता
मृत्यु से तुमको माँग लेता

कितने अभागे अब हम है
तेरे बिना न मेरे में दम है
कहाँ छिपी हो अब तुम ?
लेने अवार्ड आ जाओ तुम

MOM फिल्म में मिला ये अवार्ड
अच्छी माँ को मिला ये अवार्ड
अगर माँ के रूप में यहाँ होती
कितनी ख़ुशी हम सबको होती

पर विधि को न था ये मंजूर
कर दिया उसने सबको मजबूर
काश! तुम आज यहाँ होती
हमको यह मजबूरी देखनी न होती

“ख़ुशी” कितनी आज खुश होती
अगर आज तुम जिन्दा होती
तुमको गले से लगा लेती
तुम भी उसका चुम्बन लेती

वह केवल एक न अच्छी कलाकार थी
वह एक अच्छी पत्नी ओर माँ भी थी
मेरी जान के अलावा फिल्मो की जान थी
वह रोता-बिलखता हमको छोड़ गयी थी

मै एक छोटा सा मामूली कवि हूँ
तुम्हारा इस अवसर पर स्वागत करता हूँ
मै श्रीदेवी जी का बहुत बड़ा फैन हूँ
उन पर हमेशा लिखता रहता हूँ

आर के रस्तोगी
मो 9971006425

Previous article“ऋषि दयानन्द का ‘स्वमन्तव्यामन्तव्यप्रकाश’ गागर में सागर”
Next articleडीएनए कानूनः खुल जाएंगे जिंदगी के राज
आर के रस्तोगी
जन्म हिंडन नदी के किनारे बसे ग्राम सुराना जो कि गाज़ियाबाद जिले में है एक वैश्य परिवार में हुआ | इनकी शुरू की शिक्षा तीसरी कक्षा तक गोंव में हुई | बाद में डैकेती पड़ने के कारण इनका सारा परिवार मेरठ में आ गया वही पर इनकी शिक्षा पूरी हुई |प्रारम्भ से ही श्री रस्तोगी जी पढने लिखने में काफी होशियार ओर होनहार छात्र रहे और काव्य रचना करते रहे |आप डबल पोस्ट ग्रेजुएट (अर्थशास्त्र व कामर्स) में है तथा सी ए आई आई बी भी है जो बैंकिंग क्षेत्र में सबसे उच्चतम डिग्री है | हिंदी में विशेष रूचि रखते है ओर पिछले तीस वर्षो से लिख रहे है | ये व्यंगात्मक शैली में देश की परीस्थितियो पर कभी भी लिखने से नहीं चूकते | ये लन्दन भी रहे और वहाँ पर भी बैंको से सम्बंधित लेख लिखते रहे थे| आप भारतीय स्टेट बैंक से मुख्य प्रबन्धक पद से रिटायर हुए है | बैंक में भी हाउस मैगजीन के सम्पादक रहे और बैंक की बुक ऑफ़ इंस्ट्रक्शन का हिंदी में अनुवाद किया जो एक कठिन कार्य था| संपर्क : 9971006425

5 COMMENTS

    • आपने अपनी हृदयस्पर्शी कविता में सचमुच स्वर्गीय श्रीदेवी के लिए श्री बोनी कपूर के मन के उदगार प्रस्तुत किये हैं!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here