आए कहाँ हैं आफ़ताब !

आए कहाँ हैं आफ़ताब, रोशनी लिए;
रूहों की कोशिका के दिये, झिलमिले किए!

मेघों की मंजु माला, अभी गगन है गुथी;
दायरे दौर कितने अभी, आँधियाँ मखी!
मन मयूरों के नाच, लखे नियन्ता रहे;
वे वसन्ती लिवास लिए, कहाँ हैं चहे!

चाहे कहाँ हैं जीव अभी, अपनापन लिए;
अपनी किताब औ ख़िताब सिर्फ़ वे लखे!
आए हैं समझ अब भी कहाँ, असली माज़रे;
‘मधु’ सुने भी नमूने कहाँ, उनकी ग़ज़ल के!

गोपाल बघेल ‘मधु’

Leave a Reply

26 queries in 0.344
%d bloggers like this: