……….फिर चली बात प्रियंका की!

संजय सक्सेना
लोकसभा चुनाव की दस्तक सुनाई देते ही कांगे्रस का एक धड़ा पुनः प्रियंका गांधी वाड्रा के पक्ष में माहौल बनाने लगा है। अबकी बार प्रियंका के राबयरेली से लोकसभा चुनाव लड़ने की बात कही जा रही है। कहा यह जा रहा है कि स्वास्थ्य कारणों से सोनिया गांधी अबकी से लोकसभा चुनाव नहीं लड़ेगी ? उनकी जगह प्रियंका गांधी रायबेरली की बागडोर संभाल सकती हैं। इसमें कितनी हकीकत है यह तो दस जनपथ ही बता सकता है, लेकिन इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता है कि प्रियंका और यूपी के चुनाव एक-दूसरे के पूरक बन गये हैं। उत्तर प्रदेश में जब-जब चुनाव की आहट या फिर प्रदेश में कांगे्रस की हालात पतली दिखाई पड़ती है, तब-तब प्रियंका के चुनाव लड़ने की तमाम अधकचरी जानकारियों के साथ उनका (प्रियंका गांधी वाड्रा) नाम सुर्खिंया बटोरने लगता है। माहौल कुछ ऐसा बनाया जाता है मानों प्रियंका के आते ही कांगे्रस के अच्छे दिन आ जायेंगे। 2014 के लोकसभा चुनाव के समय प्रियंका के इलाहाबाद (नया नाम प्रयागराज) से लोकसभा चुनाव लड़ने की खबरों ने खूब सनसनी पैदा की थी, तो 2017 के विधान सभा चुनाव के समय भी, ‘बज रहा है प्रदेश में डंका, आने को हैं बहन प्रियंका’ जैसे स्लोगन लिखे पोस्टर इलाहाबाद मंे इधर-उधर खूब दिखाई दिए।
बात 2014 के लोकसभा चुनाव की कि जाये तो उस समय प्रियंका लोकसभा का चुनाव तो लड़ती नहीं दिखीं, लेकिन माॅ सोनिया गांधी और भाई राहुल गांधी के संसदीय क्षेत्र में जरूर उन्होंने कांगे्रस के लिए चुनाव प्रचार किया था। चुनाव प्रचार के दौरान प्रियंका की सियासत पर मजबूत पकड़ होने की छाप स्पष्ट दिखाई दी तो कुछ लोंगों को प्रियंका में इंदिरा की छवि नजर आई,लेकिन उनके एक बयान ने कांगे्रस को नुकसान भी खूब पहुंचाया। चुनाव प्रचार के दौरान तब के बीजेपी के प्रधानमंत्री पद के दावेदार नरेन्द्र मोदी को लेकर प्रियंका के एक विवादित बयान से चलते कांगे्रस को काफी नुकसान उठाना पड़ा था। प्रियंका ने चुनाव प्रचार के दौरान एक जनसभा में कह दिया था कि मोदी नीची राजनीति करते हैं। मोदी ने प्रियंका के इस बयान को अपनी जाति से जोड़कर कहना शुरू कर दिया कि मेरी जाति को नीच बताया जा रहा है। मोदी ने कांगे्रस पर जर्बदस्त हमला किया जिसका फायदा भी बीजेपी को मिला था।
इसी प्रकार 2017 में उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के समय एक तरफ कांगे्रस के रणनीतिकार प्रशांत किशोर पार्टी के लिए चुनावी समीकरण बना रहे थे तो दूसरी तरफ कांग्रेसी कार्यकर्ता गांधी परिवार के पैतृक शहर इलाहाबाद में कांग्रेस की कमान प्रियंका गांधी को दिए जाने को लेकर फेसबुक पर बाकायदा कैंपेन चलाया जा रहे थे। इतना ही नहीं उसी समय कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के इलाहाबाद पहुंचने पर उनके सामने भी कार्यकर्ताओं ने प्रियंका गांधी को सक्रिय राजनीति में उतारने की गुजारिश की थी। चुनाव में रणनीतिकार के रूप में हायर किए गए प्रशांत किशोर ने भी अपने फीडबैक में कहा था कि सीएम के तौर पर यदि प्रियंका गांधी का नाम आगे किया जाए तो कांग्रेस की संभावना बढ़ जाएगी। यूपी विधानसभा चुनाव के समय स्थिति यह हो गई थी कि कांग्रेस के यूपी प्रभारी गुलाम नबी आजाद ने सार्वजनिक तौर पर उन्हें कांग्रेस का कमांडर इन चीफ करार दे दिया था, लेकिन चुनाव परिणाम आने के बाद उनकी सक्रियता पूरी तरह खत्म हो गई थी।

पुरानी बातों को दरकिनार कर इस वर्ष अप्रैल-मई में होने वाले लोकसभा चुनाव की कि जाये तो इस साल होने वाले लोकसभा चुनाव में रायबरेली सीट से प्रियंका गांधी वाड्रा के कांग्रेस उम्मीदवार होने की चर्चा फिर से न केवल सुनने को मिलने लगी हैं बल्कि इसकी तैयारियां भी शुरू हो गई हैं। रायबरेली में पार्टी के संगठनात्मक ढांचे में फेरबदल में प्रियंका की ही राय को तवज्जो दी जा रही है। प्रियंका के चुनाव मैदान में आने की बात को इसलिए भी बल मिल रहा है क्योंकि पिछले चुनाव के बाद से सोनिया गांधी की सक्रियता क्षेत्र में काफी कम रही है। वह यहां न के बराबर पहुंची,जबकि प्रियंका गांधी लगातार सक्रिय हैं। स्थानीय कांगे्रसी नेता रायबरेली से सीधे तौर पर प्रियंका गांधी के चुनाव लड़ने का दावा तो नहीं कर रहे हैं, लेकिन जब उनसे पूछा जाता है कि कौन चुनाव लड़ेगा,‘तो वह बिना लाग-लपेट के कहते हैं कि सोनिया गांधी नहीं तो, गांधी परिवार का ही कोई सदस्य चुनाव लड़ेगा।

Leave a Reply

%d bloggers like this: