संजय सक्‍सेना

मूल रूप से उत्तर प्रदेश के लखनऊ निवासी संजय कुमार सक्सेना ने पत्रकारिता में परास्नातक की डिग्री हासिल करने के बाद मिशन के रूप में पत्रकारिता की शुरूआत 1990 में लखनऊ से ही प्रकाशित हिन्दी समाचार पत्र 'नवजीवन' से की।यह सफर आगे बढ़ा तो 'दैनिक जागरण' बरेली और मुरादाबाद में बतौर उप-संपादक/रिपोर्टर अगले पड़ाव पर पहुंचा। इसके पश्चात एक बार फिर लेखक को अपनी जन्मस्थली लखनऊ से प्रकाशित समाचार पत्र 'स्वतंत्र चेतना' और 'राष्ट्रीय स्वरूप' में काम करने का मौका मिला। इस दौरान विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं जैसे दैनिक 'आज' 'पंजाब केसरी' 'मिलाप' 'सहारा समय' ' इंडिया न्यूज''नई सदी' 'प्रवक्ता' आदि में समय-समय पर राजनीतिक लेखों के अलावा क्राइम रिपोर्ट पर आधारित पत्रिकाओं 'सत्यकथा ' 'मनोहर कहानियां' 'महानगर कहानियां' में भी स्वतंत्र लेखन का कार्य करता रहा तो ई न्यूज पोर्टल 'प्रभासाक्षी' से जुड़ने का अवसर भी मिला।

यूपी विद्युत नियामक आयोग ने मांगी स्टेटस रिपोर्ट ‘स्मार्ट’ के नाम पर आउट डेट््ड मीटर लगाने का खेल!

व-ुनवजर्याों पहले अपने घरों में लगे बिजली के पुराने मीटर अब अतीत बनकर रह गए…

मौत का वे-ंउचययमुना एक्सपे्रस-ंउचयवे रोडवेज के लापरवाह अधिकारियों को 29 ‘हत्याओं’ के जुर्म में गिरफ्तार करना चाहिए

संजय सक्सेना,लखनऊ उत्तर प्रदेश का यमुना एक्सपे्रस-ंउचयवे फिर कलंकित हो गया। एक बार फिर यह…

13 अगस्त को अंगदान दिवसःजागरूकता अभियान अभी से जोर पकड़े,ताकि बच सके लाखों जिंदगियां

संजय सक्सेना,लखनऊ अंगदान के मामले में भारत की स्थिति अन्य देशों के मुकाबले काफी खराब…

यूपी में दुधारी गाये बना,ईमानदार बिजली उपभोक्ता

संजय सक्सेना,लखनऊ उत्तर प्रदेश पाॅवर कारपोरेशन लिमिटेड(यूपीपीसीएल)अपनी तमाम खामियों के कारण हमेशा चर्चा बटोरता रहता…