अपूर्व बाजपेयी

मैं अपूर्व बी.सी.ए (महात्मा ज्योतिबा फुले रूहेलखंड यूनिवर्सिटी) से कर चूका हु । अभी फ़िलहाल एम.सी.ए (अब्दुल कलाम टेक्निकल यूनिवर्सिटी,लखनऊ) में अध्यनरत हूँ। लिखना बस एक शौक है जो एक आदत में तब्दील होती जा रही है। संपर्क न.: 7897211842

आखिर कब जड़ेगा उत्तर प्रदेश में “मधुशाला पर ताला”??

अवैध धंधो की तरफ उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री जी की नजर टेढ़ी होते ही महिलाओं ने भी शराब बंदी का पुरजोर समर्थन , कहीं तोड़फोड़ तो कहीं मारपीट से किया. उन महिलाओं की नजर में यह एक ऐसा जहर है जो पूरे परिवार की खुशियों को उनसे छीन रहा है पर वर्तमान परिदेश्य के मुताबिक अब सरकार को शराब बंदी की अच्छाइयों के प्रति समाज में जागरूकता फ़ैलाने की आवश्यकता है. स्कूल कॉलेजों में कार्यक्रम आयोजित कर इससे होने वाली परेशानियों से अवगत कराने की जरूरत है तभी इस धीमे जहर से कुछ हद तक राहत पाई जा सकती है .