डॉ. मनोज जैन

लेखक जैन महाविद्यालय, भिण्ड में राजनीति विज्ञान के प्राध्यापक है;

जारी है राष्ट्रपति चुनाव की कशमकश

संसद के दोनों सदनों के निर्वाचित सदस्यों और राज्यों के विधायी विधानसभाओं और दिल्ली और पुडुचेरी के संघ शासित प्रदेशों के निर्वाचित सदस्यों से मिलकर भारत के राष्ट्रपति का चुनाव करता है। निर्वाचन मंडल की कुल ताकत 10 98,882 है और एनडीए के पास 53,1442 की ताकत है, 54,9442 के बहुमत से सिर्फ 18,000 वोटों की कमी हो रही है।