मनमोहन आर्य

स्वतंत्र लेखक व् वेब टिप्पणीकार

पापों में वृद्धि का कारण ईश्वर द्वारा जीवों को प्राप्त स्वतन्त्रता का दुरुपयोग

–मनमोहन कुमार आर्य                संसार में मनुष्य पाप व पुण्य दोनों करते हैं। पुण्य कर्म…

पाप कर्मों का त्याग तथा वेद धर्माचरण ही जन्म-जन्मान्तरों में सुख व उन्नति का आधार है

–मनमोहन कुमार आर्य                मनुष्य को यह जन्म उसके पूर्वजन्मों के पाप–पुण्यरूपी कर्मों के आधार…

आर्यसमाज को सशक्त बनाने वाले डा. सोमदेव शास्त्री के कुछ प्रशंसनीय एवं अनुकरणीय कार्य

-मनमोहन कुमार आर्य डा. सोमदेव शास्त्री, मुम्बई आर्यसमाज के प्रमुख एवं शीर्ष विद्वानों में हैं।…