बंदरजी भाई बंदरजी,

कैसे आये अंदरजी|

 

बंद पड़ा था दरवाजा|

तुमने किससे खुलवाया|

दरवाजा दो टन का था|

भारी बहुत वज़न का था|

जिसने इसको खोला है|

होगा बड़ा सिकंदरजी|

 

तुम्हें यहीं रहना होगा|

कष्ट बहुत सहना होगा|

घर का मालिक दादा है|

पागल आधा आधा है|

दरवाजे पर डाला है,

उसने मोटा लंगरजी|

 

बंदर को गुस्सा आया|

उसने सबको बतलाया|

वह घर का पर दादा है|

पर‌ दादा का दादा है

इंसानों के सभी पूर्वज

होते ही हैं बंदरजी|

Leave a Reply

%d bloggers like this: