अंग्रेजी चाची ने हिंदी, दादी पर हमला बोला|

डर के मारे दादी का, सिंहासन है थर थर डोला|

चुपके चुपके दादी माँ ,अपने दड़बे मे‍ घुस आई|

“मैं वेदों की महरानी हूँ,” जोर जोर से चिल्लाई|

“बड़े बुज़्रगों ने मुझको ,धर्मों करमों में ढाला था|

बहुत प्यार से बड़े लाड़ से ,स्मृतियों ने पाला था|

मेरे पुरखों दादों ने, दुनियाँ को जीना सिखलाया|

सत्य अहिंसा दया धर्म का, मार्ग जहाँ को दिखलाया|

तुम सब नाती पोते, दादी ,हिंदी को क्या पहचानों|

तुम अधकचरे मात पिता की, हो अधकच‌री संतानो|

दादी का अस्तित्व अभी तक, कोई मिटा न पाया है|

नहीं मिटेगी किसी तरह भी ,अमर हो चुकी काया है|

हिंदी दादी अमर रहेगी ,इंग्लिश चाची के घर में|

गूंजेगी आवाज़ हमेशा ,थल में जल में अंबर में|”

 

Leave a Reply

%d bloggers like this: